उत्पाद निर्माणशुरू करें प्लास्टिक चम्मच (Plastic Spoon) बनाने का व्यवसाय

शुरू करें प्लास्टिक चम्मच (Plastic Spoon) बनाने का व्यवसाय

प्लास्टिक चम्मच बनाने का बिजनेस (Plastic Spoon Manufacturing Business): आज प्लास्टिक चम्मचों (Plastic Spoon) का उपयोग व्यक्तिगत स्तर पर होने वाले लगभग सभी आयोजनों के अलावा लगभग सभी बड़े-छोटे रेस्तरां, होटल, ढाबों, नुक्कड़ फ़ास्ट-फ़ूड पॉइंट व अन्य सभी खान-पान से सम्बंधित उद्यमों में बड़े पैमाने पर किया जाता है.

मॉडर्न फैशन के चलते दुनिया की बड़ी आबादी ऐसे खाद्य सामग्री (पैक्ड फूड) को खाना पसंद कर रही है, जिस खाद्य सामग्री को उन्हें अपने हाथों से छूने की जरूरत ही न हो. ऐसे में अधिकतर को खाना खाने के लिए चम्मचों की आवश्यकता पड़ती है. पैकेज फूड इंडस्ट्री में प्लास्टिक चम्मच की डिमांड हमेशा बनी ही रहती है.

प्लास्टिक-चम्मच-बिजनेस-Plastic-Spoon-Manufacturing-Business

किफायती दरों पर मिलने के कारण मौजूदा समय में प्लास्टिक चम्मच न केवल खाना खाने के काम में आते हैं बल्कि इनका उपयोग किचन में खाना बनाते समय मसालों को मापने के लिए भी किया जाता है. ऐसे में चम्मच बनाने का बिजनेस (Spoon Manufacturing Business)नए उद्यमियों के लिए बेहतर मुनाफे कमाने का विकल्प साबित हो सकता है.

तो प्रश्न उठता है कि प्लास्टिक चम्मच बनाने का बिजनेस (Plastic Spoon manufacturing Plant) स्थापित करने के लिए किन-किन चीजों व घटकों की आवश्यकता (Plastic Spoon manufacturing Business Plan) होगी?, बिजनेस का पंजीकरण कहाँ पर कराना होता है, कितनी लागत में चम्मच बनाने का बिजनेस शुरू किया जा सकता है? साथ ही इस बिजनेस में कितना मुनाफा कमाया जा सकता है?

अनुक्रमिका

प्लास्टिक चम्मच बनाने के लिए रॉ मटेरियल (Plastic Spoon Raw Materials)-

प्लास्टिक चम्मच बनाने या कांटा (फोर्क-fork) बनाने के लिए मुख्य रूप से प्लास्टिक ग्रेनुअल्स का ही प्रयोग किया जाता है. यह ग्रेनुअल्स पोली प्रोपाईलिन (Polypropylene) किस्म की प्लास्टिकमटेरियल से बने होते हैं. 

पोली प्रोपाईलिन मुख्य रूप से पेट्रो-केमिकल प्रोडक्ट है. जिसके दाने से प्लास्टिक चम्मच बनाने के अलावा भी अन्य कई उत्पाद बनाए जाते हैं. इसकी कीमत 42 रूपए प्रति किलोग्राम से शुरू हो जाती है. आम बोलचाल की भाषा में पोली प्रोपाईलिन को PP Granules भी कहा जाता है.

प्लास्टिक चम्मच बनाने के लिए मशीनरी (Required Plastic Spoon Making Machinery)-

प्लास्टिक चम्मच (kitchen use or disposable plastic spoons for edible purpose) बनाने का काम पूरी तरह से मशीनों से किया जाता है. इसलिए Plastic Spoon manufacturing Plant स्थापित करने के लिए पूरी तरह से ऑटोमेटिक मशीनों की आवश्यकता होती है. ये plastic spoon making machine हैं-

  1. Hydraulic Injection Molding Machine (कीमत- 05 लाख रूपए से शुरू)
  2. Grinder Machine (कीमत- 01 लाख रूपए से शुरू)
  3. Molding Dyes (product wise) (कीमत- 1,000 रूपए प्रति पीस से शुरू)
  4. Micrometer (कीमत- 1,200 रूपए से शुरू)

नोट- लेख में बताये गए सभी रेट में बाजार उतार-चढ़ाव के कारण बदलाव संभावित है.

कहां से खरीदें (Where to buy)-

उपरोक्त मशीनरी व रॉ मटेरियल को आप अपने लोकल मार्केट से ले अथवा खरीद सकते हैं यदि लोकल बाजार में यह मशीने व मटेरियल नहीं मिल पा रहा हैं तो इसे आप ऑनलाइन नीचे दी गई वेबसाइटस से खरीद सकते हैं-

  1.  www.indiamart.com 
  2. www.treadeindia.com
  3. www.alibaba.com

इसे भी पढ़ें- कम पैसों में आटे का बिजनेस कैसे शुरू करें

प्लास्टिक चम्मच बनाने की विधि (Process of Plastic Spoon Manufacturing)-

प्लास्टिक ग्रेनुअल से चम्मचों का निर्माण (disposable spoon making) करना बहुत ही आसान है, चूँकि यह काम पूरी तरह से ऑटोमेटिक प्रक्रिया से किया जाता है इसलिए कोई भी इन प्लास्टिक चम्मचों को आसानी से बना सकता है.

व्यवसायिक तौर पर प्लास्टिक ग्रेनुअल से चम्मचों का निर्माण करने व फिनिश प्रोडक्ट  (disposable edible spoon) तैयार करने की प्रक्रिया को …. चरणों में पूरा किया जाता है-

प्रथम चरण-

  • सबसे पहले प्लास्टिक ग्रेनुअल (PP Granules) को Hydraulic Injection Molding Machine के हॉपर में भर दिया जाता है. यहां आप यदि रंगीन प्लास्टिक चम्मचों का निर्माण करना चाहते हैं तो पहले से ही वांछित रंग के प्लास्टिक ग्रेनुअल (PP Granules) बाजार से लें.
  • इसके बाद Hydraulic Injection Molding Automatic Machine में वांछित चम्मच के आकार के डिज़ाइन की डाई या सांचा मशीन के अन्दर install किया जाता है. तत्पश्चात…
  • Micrometer से वांछित निर्माण किये जाने वाले चम्मच की मोटाई की नाप लेकर मशीन में सेट कर दिया जाता है. इसके बाद…
  • प्लास्टिक ग्रेनुअल (PP Granules) हॉपर में भर देने के बाद Hydraulic Injection Molding Automatic Machine को start कर दिया जाता है, जहां यह मशीन प्लास्टिक ग्रेनुअल (PP Granules) को पिघलाकर वांछित चम्मच के सांचो या डाई (Molding Dyes (product wise) में ढाल देती है. यह सब काम 02 से 03 मिनटों के अन्दर हो जाता है.
  • इसके बाद मशीन में से सांचो या डाई से बन चुके चम्मचों को निकाल कर कुछ देर तक ठंडा किया जाता है, जिससे ये बने चम्मच ठोस व मजबूत हो जाते हैं.
प्लास्टिक-चम्मच-बनाने-का-बिजनेस-Plastic-Spoon-Manufacturing-Business

नोट-

उपरोक्त मशीन में लगाए जाने वाले सांचो या डाई को बदलकर प्लास्टिक से बनने वाले अन्य उत्पाद जैसे- Tooth Pick, tooth brush stick, Plastic Knife, Kids Toys, Kitchen Spatula, Food Serving Big Spoons, प्लास्टिक कटोरी, मग, Plastic Measuring Cups and Teaspoon, Tablespoon और कई तरह के प्लास्टिक से बने उत्पादों की manufacturing भी की जा सकती है.

दूसरा चरण- 

  • चम्मचों के ठोस व मजबूत हो जाने के बाद बारी आती है, चम्मचों की ग्रंडिंग की. सामान्य तौर पर मशीन से निकलने के बाद चम्मचों में अतिरिक्त प्लास्टिक लगा होता है. इसकी कटाई किया जाना अनिवार्य एवं प्राथमिक चरण में से एक है. 
  • अतिरिक्त प्लास्टिक की कटिंग Grinder Machine से की जाती है. यह मशीन ऑटोमेटिक और सेमी-ऑटोमेटिक दोनों वेरियंट में आती है.

इसे भी जरूर पढ़ें- सफल कारोबारी की खास बातें

तीसरा चरण- 

  • दूसरे चरण के पूरा होते ही प्रोडक्ट उपयोग में लिए जाने को पूरी तरह से तैयार हो जाता है. इसके बाद छोटे चम्मचों को 50-50 का बंडल बनाकर व अन्य product/उत्पाद को bulk या सिंगल पैकिंग में पैक कर होलसेल या रिटेल मार्केट में भेज दिया जाता है.

नोट- व्यवसायिक स्तर पर उपरोक्त बताई गई विधि अनुसार प्लास्टिक से बनने वाले चम्मचों व अन्य सम्बंधित उत्पादों का निर्माण किया जाता है. 

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक स्थान (Required Area)-

Plastic Spoon manufacturing Plant या फैक्ट्री शुरू करने के लिए कम से कम 1,000 वर्ग फुट स्थान या जगह की जरूरत होती है, जहां प्लांट कम से कम 800 वर्ग फुट क्षेत्र (Area) पूरी तरह से धूल, बारिस, मिट्टी व प्रदूषण से ढका (Covered) या संरक्षित होना चाहिए। 

साथ ही प्लांट में मशीनों के स्थान ऐसे निर्धारित किए गए हों जिससे कर्मचारियों को काम करने एवं कच्चा व तैयार माल सुरक्षित रखने में असुविधा न हो। इस स्थान पर बिजली आदि की उचित व्यवस्था का होना अनिवार्य है।

सुझाव-

आपको Plastic Spoon making business शुरू करने के लिए ऐसे स्थान का चुनाव करना चाहिए, जहां से रॉ मटेरियल/कच्चा माल लगातार व आसानी से मिल सकता हो। साथ ही आपके स्थापित प्लांट स्थान पर transportation संबंधी आवागमन (क्रय-विक्रय आदि) की उचित व्यवस्था होनी आवश्यक है। यह स्थान अगर किसी व्यवसायिक क्षेत्रों के अंतर्गत आता है तो सबसे उत्तम है।

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस में बिजली की आवश्यकता (Required Electricity)-

Plastic Spoon making बिजनेस में मशीनों आदि के सुगम संचालन के लिए कम से कम 05 से 30 किलोवॉट क्षमता के बिजली कनेक्शन की अवश्यकता होती है। यह क्षमता मशीनों के चयन आधार पर भी सुनिश्चित की जा सकती है, साथ ही प्लांट में बिजली को नियंत्रित व पर्याप्त आपूर्ति के लिए उपकरणों का होना जरूरी है.

इसे भी पढ़ें- Public EV Charging Station Business

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस में मैनपावर की जरूरत (Required Manpower)-

अमूमन बड़े स्तर पर प्रत्येक बिजनेस में मैनपावर या कर्मचारियों की जरूरत पड़ती ही है, प्लास्टिक चम्मच (disposable spoon and fork) बनाने के बिजनेस को शुरू करने में कम से कम 04 से 07 मैनपावर या कर्मचारियों की अवश्यकता होती है। ये कर्मचारी मैनेजर, मार्केटर, लेबर व सफाई कर्मी आदि हो सकते हैं। 

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस का पंजीकरण (Business Registration)-

कोई भी बिजनेस या कारोबार शुरू करने से पहले एक उद्यमी को अपने बिजनेस या कारोबार की कम्पनी/फर्म का पंजीकरण कराना अनिवार्य है, क्योंकि किसी भी व्यापार को शुरू करने के लिए पहला मानक पंजीकरण/रजिस्ट्रेशन लेना होता है. प्लास्टिक चम्मच बनाने के बिजनेस को शुरू करने के लिए उद्यमी को अपनी फर्म पंजीकरण के बाद फर्म के नाम से एक बैक खाता खोलना अनिवार्य है। इसके बाद… 

प्लास्टिक के कच्चे/रॉ मटेरियल से प्लास्टिक चम्मच बनाने के बिजनेस या कारोबार को शुरू करने के लिए भारत सरकार द्वारा निर्धारित किए गए मानक प्रमाण पत्रों से पंजीकृत कराना अनिवार्य है। यह पंजीकरण हैं-

  1. Firm Registration
  2. MSME Registration (उद्यम पंजीकरण)
  3. Factory License
  4. Trade License
  5. GST No.
  6. NOC Certificate from Pollution Department & Fire Control Board

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस पर कुल लागत (Total Business Cost)-

यदि आप प्लास्टिक चम्मच बनाने के बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो इस बिजनेस के पूरे setup में कम से कम लगभग 10 से 15 लाख रुपए (GST अलग से) की पूंजी का निवेश करना होगा। यह निवेश ऑटोमेटिक मशीनों, स्थान, कच्चे माल की क्रय दर के अलावा मैनपावर के चयन पर घट अथवा बढ़ भी सकता है।

सुझाव-       

प्लास्टिक चम्मच बनाने का बिजनेस या किसी भी बिजनेस/कारोबार को शुरू करने अथवा लागत लगाने से पूर्व प्रत्येक इच्छुक व उभरते हुए नए उद्यमी, व्यवसायी, व्यापारी व कारोबारी को इन बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए-

  1. बाजार में उत्पाद की मांगखपत का आंकलन करना,
  2. कच्चे माल की कीमत व उपलब्धता पर ध्यान देना,
  3. अपने प्रतिस्पर्धी को पहचानना व उसकी कमियों को खोजना
  4. अपने कारोबार के लिए एक बेहतर रणनीति बनाना।

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस की मार्केटिंग (Spoon Business Marketing)-

सामान्य तौर पर यदि आप छोटे स्तर पर Single Use Disposable Plastic Spoon की manufacturing ही करने से शुरुआत करते हैं तो तैयार माल को बचने के लिए अपने क्षेत्र के होलसेल बाजार के कारोबारियों से संपर्क करें. सिंगल यूज़ डिस्पोजल प्लास्टिक चम्मच की बिक्री के लिए कोई बड़े स्तर की मार्केटिंग की जरूर नहीं होती.

आपको बस उन होलसेल कारोबारियों से संपर्क करना होता है जो प्लास्टिक से बने उत्पादों (विशेषकर किचन उत्पाद से सम्बंधित) का व्यापार करते हैं.

वही यदि आप Single Use Disposable Plastic Spoon के साथ Reusable Plastic Spoon व अन्य प्लास्टिक से बने उत्पादों की manufacturing भी करते हैं तो इसके लिए आप अपने उत्पादों की मार्केटिंग करना जरूरी है क्योकि जब तक आप मार्केटिंग नहीं करेंगे तब तक लोगों को कैसे पता चलेगा कि कोई नया उत्पाद बाजार में आया है. 

शुरूआती स्तर पर fancy Reusable Plastic Spoon और अन्य उत्पादों के प्रचार के लिए आप स्थानीय बाजार में जगह-जगह पर स्टीकर व छोटे-बड़े पोस्टर आदि लगवाकर प्रचार शुरू कर सकते हैं, इन स्टीकरों व पोस्टरों में आप द्वारा निर्मित किये जा रहे विविध उत्पादों का संक्षिप्त विवरण, उत्पादों की गुणवत्ता और आकार व रंग आदि का उल्लेख करना प्राथमिक चरण में से एक है. 

इसके साथ ही जैसे-जैसे आपका कारोबार बढ़ता जाए आप और बड़े स्तर के विज्ञापन (अखबार पृष्ठ, पत्रिका पृष्ठ और digital marketing) का भी सहारा ले सकते हैं।

आप अपने कारोबार की मार्केटिंग ऑनलाइन (Online Marketing) भी कर सकते हैं, जहां आपको एक वेबसाइट डिजाइन करनी या करवानी होगी, एक वेबसाइट बनाने या बनवाने का सालाना खर्च लगभग 10,000 से 25,000 तक आ सकता है।

इसी के साथ आप अपने उत्पादों को खुदरा व होलसेल पर बेचने के लिए e-commerce website जैसे- indiamart, amazon, flipkart, snapdeal आदि का सहारा भी ले सकते हैं.

व्यापार के बिल व ब्यौरा तैयार करना (Preparing Bills)-

अधिकतर नए व्यापारी नया व्यापार शुरू तो कर देते हैं लेकिन लागत के रूप में खर्चे गए पैसों का हिसाब सही ढंग से नहीं रखते, जो कि एक उभरते हुए व्यापारी के लिए अच्छी बात नहीं है. आज के इस डिजिटल ज़माने में अपने खर्चों को सूचीबद्ध करना बहुत ही आसान है. इसके लिए आज ढेरों software और application मौजूद हैं. 

यदि आप एक smart phone अपने पास रखते हैं तो Google play store पर billing और accounting से जुडी ढेरो application मौजूद हैं. आप उनमें से किसी एक उपयोग कर सकते हैं. इन application में आप अपने तैयार समान के बिल बनाने से लेकर अपनी लागत का ब्यौरा भी सुरक्षित रख सकते है, और इससे आपको पता रहेगा कि आपने अपने बिजनेस में अब तक कुल कितनी लागत लगाई है और कितना मुनाफा कमाया.

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस के लिए लोन (Business Loan)-

लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने मेक इन इण्डिया के तहत प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP), कौशल विकास योजना आदि के माध्यम आपको आसानी से ऋण/लोन मिल सकता है.

इसके लिए आपको अपनी कंपनी या फर्म के पंजीकरण संख्या से सरकारी योजनाओं के तहत आवेदन करना होगा. सरकारी योजनाओंके तहत लघु उद्योग हेतु ऋण/लोन लेने के लिए आप अपने क्षेत्रीय सरकारी बैंक की शाखा से आवशयक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

प्लास्टिक चम्मच बिजनेस में मुनाफा (Profit in Spoon Manufacturing Business)-

अब बात करते हैं प्लास्टिक चम्मच बनाने के प्लास्टिक चम्मच बनाने के बिजनेस से होने वाले मुनाफे की। सामान्य तौर पर प्लास्टिक चम्मच बनाने के बिजनेस में रॉ मटेरियल या कच्चे माल को 42 से 80 रुपए प्रति किलो की दर से खरीदा जाता है। 

जिसे मशीनों द्वारा प्लास्टिक चम्मच बनाने की Process से गुजारकर तैयार उत्पाद (अलग-अलग quality का) को गुणवत्ता के आधार पर प्रति पीस की दर होलसेल व खुदरा बाजार में को आसानी बेचा/विक्रय किया जाता है। जहां सारी कटौतियों का भुगतान करने के बाद आसानी से 20 से 35 प्रतिशत तक मुनाफा लिया अथवा कमाया जाता है।

नोट- यह मुनाफा तैयार माल/उत्पाद की गुणवत्ता (Quality) पर विशेष रूप से निर्भर करता है।

सुझाव-

अपने मुनाफे को बढाने के लिए आप कुछ प्लास्टिक से बने अन्य उत्पादों का निर्माण भी बड़े स्तर पर कर अथवा करवा सकते हैं, जिसे खुदरा बाजार में आसानी से बिक्री हेतु भेजा जा सकता है. अमूमन आज कई सारे उत्पाद प्लास्टिक से बनाए जाते हैं, इन उत्पादों में से आपको ऐसे product का चुनाव करना होगा जिसका प्रयोग लगभग आज सभी करते हैं और product बनाने में लागत भी कम आती हो। 

FAQ.

प्लास्टिक चम्मच (Plastic Spoon) बनाने की मशीन कितने की आती है?

प्लास्टिक आधारित किचन वेयर उत्पाद बनाने के लिए Hydraulic Injection Molding Machine का उपयोग किया जाता है, जिसकी कीमत- 05 लाख रूपए से शुरू हो जाती है.

अंत में-

हमारा उद्देश्य उन इच्छुक उम्मीदवारों, व्यवसायियों, व्यापारियों और कारोबारियों को बेहतर से बेहतर जानकारी प्रदान करना है, जो प्लास्टिक चम्मच बनाने के बिजनेस को करने के इच्छुक हैं और इस बिजनेस में अपना भविष्य में देख रहे हैं.

नोट- किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले बाजार/मार्केट रिसर्च एवं खपत का आंकलन अनिवार्य रूप से अवश्य करें. ऐसा करने से आपको बिजनेस में आने वाले जोखिम और दिक्कतों का सामना करने में आसानी हो जाएगी और बाजार में डिमांड के अनुरूप आप अपने products का निर्माण भी अच्छे से कर पाएंगे.

आशा है आपको इस लेख कैसे शुरू करें प्लास्टिक चम्मच बनाने का बिजनेस’ से प्लास्टिक चम्मच बनाने के  business/बिजनेस, व्यापार व कारोबार के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही… यदि कुछ छूट गया हो या कुछ पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में जरूर लिखें. तब तक के लिए-

“शुभकामनाएं आपके कामयाब और सफल व्यापारिक भविष्य के लिए”

धन्यवाद!

जय हिंद! जय भारत!

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular