उत्पाद निर्माणकम लागत में परफ्यूम बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | Perfume...

कम लागत में परफ्यूम बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | Perfume Making Business with Low Investment

परफ्यूम बनाने का बिजनेस (Perfume Making Business): प्राचीन समय से ही सुगंध हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा रही है जो आज भी कायम है. एक शानदार मनमोहक खुशबू बैठे-बैठे आपकी यादों को उजागर कर यादों में खो जाने का अहसास दे सकती है क्योंकि एक मनमोहक सुगंध हर किसी को अपनी और आकर्षित करने क्षमता रखती है.

यदि आप छोटे निवेश के साथ बेहतर मुनाफा कमाने वाला बिजनेस करना चाहते हैं तो परफ्यूम बनाने का बिजनेस (Perfume making business) आपके एक शानदार विकल्प साबित हो सकता है. मौजूदा बाजार में आज अधिकतर जिस प्रकार के परफ्यूम बिक्री के लिए देखने को मिलते हैं उसे बहुत ही आसान प्रक्रिया के तहत बनाकर तैयार किया जाता है.

हालांकि यदि आप इस पोस्ट पर पहुँच चुके हैं तो निश्चित ही इससे पहले आपने YouTube पर ढेरों वीडियो जरूर खंगाले होंगे, पर आपको अभी भी संतुष्टि नहीं मिली. खैर… देखिये! “परफ्यूम बनाना एक कला है जो धीरे-धीरे विकसित होती है.”

परफ्यूम-बनाने-का-बिजनेस-Perfume-Making-Business

आसानी से परफ्यूम बनाने के लिए आपको बस कुछ सुगंधित द्रव्यों के साथ प्रयोग करने की आवश्यकता है. साथ ही अगर चरणबद्ध तरीके से सुगंधित द्रव्यों के साथ प्रयोगों को किया जाए, तो परिणाम में आपके द्वारा निर्मित परफ्यूम एक उत्कृष्ट लाभ/मार्जिन (लगभग 2 से 5 गुना या इससे भी ऊपर) भी आसानी से दिला सकता है.

तो अब प्रश्न उठता है कि perfume making अथवा परफ्यूम बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए perfume making business plan तहत किन-किन चीजों व घटकों की आवश्यकता होती है और शुरूआती चरण में कितनी पूँजी निवेश की लागत जरूरी है. इसके अलावा perfume banane ka formula तैयार करने के लिए कौन-कौन से रॉ मटेरियल की जरूरत व कौन से पंजीकरण करने जरूरी है?

इन सब चीजों का उल्लेख करने से पहले आप जान लो कि मौजूदा बाजार में कितने तरह के परफ्यूम की मांग (perfume demands) हमेशा बनी ही रहती है. यदि आप इन परफ्यूमों से अपना उद्यम/बिजनेस की शुरूआत करते हैं तो यह आपके भावी कारोबार के लिए मुनाफा कमाने की एक सकरात्मक पहल हो सकती है.

परफ्यूम बिजनेस के तहत परफ्यूम के प्रकार (Types of perfumes)-

अमूमन सुगंध एक ऐसा घटक है, जिसके बिना जीवन ही अकल्पनीय है, ऐसा इसलिए क्योंकि  

मौजूदा मार्केट में व्यवसायिक दृष्टी से आंकलन करने पर … तरह के परफ्यूम देखने को मिलते हैं, जिनका बहुत ही बड़ी मात्रा में उपभोग किया जाता है अथवा जा रहा है-

  1. शरीर पर उपयोग होने वाले फ्रेगनेंस परफ्यूम (इत्र, डियो आदि)
  2. वातावरण (हवा) को सुगन्धित बनाने वाला फ्रेगनेंस परफ्यूम (Air Freshener)
  3. वांछित उत्पाद को सुगन्धित करने वाले फ्रेगनेंस परफ्यूम (क्लीनिंग उत्पाद व खाद्य उत्पाद परफ्यूम)

परफ्यूम बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक स्थान (Required Area)-

परफ्यूम बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए इच्छुक उद्यमी को छोटे स्तर पर कम से कम 100 sqft स्थान तथा बड़े स्तर पर 1000 sqft स्थान की आवश्यकता होती है. यह स्थान यदि आपके निवास स्थान (घर) पर भी हो सकता है.

चयनित स्थान पर कारोबार शुरू करने के लिए स्थान धूल, बारिस, प्रदूषण व सीधी धूप से संरक्षित होना जरूरी होता है. इसके अलावा आपके चयनित स्थान पर रोशनदान, खिड़की, बिजली, पानी, लाइट्स व एक्जास्ट फैन की उपलब्धता हा होना भी जरूरी है.

इसके अलावा चयनित स्थान पर कच्चे माल व तैयार माल को सुरक्षित रखने के स्थान भी पूर्व निर्धारित किये गए हों. देखिये परफ्यूम बनाने के बिजनेस में अथवा किसी भी कारोबार में यदि चीजें organized तरीके से की जाएँ तो काम जल्दी होता है और गलती की संभावनाओं पर भी अंकुश लगाने में भी सहूलियत हो जाती है.

आइये जानते हैं कि परफ्यूम बनाने के लिए किन-किन रॉ मटेरियल व घटकों की आवश्यकता होती है-

परफ्यूम बनाने के लिए रॉ मटेरियल (Raw material)-

व्यवसायिक स्तर पर परफ्यूम बनाने का बिजनेस/कारोबार शुरू करने के लिए आपको कुछ रॉ मटेरियल/घटकों की आवश्यकता होती है. ये रॉ मटेरियल/घटक नीचे तालिका में दिए गए हैं, इनकी मदद से आप एक उच्च गुणवत्ता के सेंट अथवा परफ्यूम का निर्माण बड़ी ही सरलता से कर सकते हैं. perfume banane ka tarika जानने के लिए रॉ मटेरियल्स पर विशेष ध्यान दें-

Body Perfume बनाने के लिए रॉ मटेरियल-

Raw MaterialQuantityMeasurement 
Isopropyl Alcohol45ml 
Essential Oil (base Oil)20ml 
Galaxolide5ml 
Glycerin10ml 
DM Water70ml 
Color (optional or as you required)1gm 
Spray Bottle   
कम-निवेश-में-शुरू-करें-परफ्यूम-बनाने-का-बिजनेस-Start-Perfume-Making-Business

Air Freshener making raw material-

Raw MaterialQuantityMeasurement 
Essential Oil (base Oil)48ml 
Alfox-200/Proplyn Glycol22ml 
Glycerin (optional)10ml 
Galaxolide3ml 
Ethyl Alcohol / Isopropyl Alcohol300ml 
DM Water600ml 
Color (optional or as you required)1gm 
Spray Bottle   

इसके अलावा भी मौजूदा मार्केट में ऐसे भी परफ्यूम ख़रीदे व बेचे जाते हैं, जिनका उपयोग दैनिक उपयोग के उत्पादों में किया जाता है. मसलन- हर तरह से नहाने के साबुन अथवा कपड़े व बर्तन धोने के साबुन, डिटर्जेंट, टाइल्स क्लीनर, बॉडी लोशन, हैंड वाश जेल, फिनायल, धूपबत्ती, अगरबत्ती परफ्यूम व अन्य उत्पाद.

इन सभी उत्पादों में जिस तरह के परफ्यूम को मिलाया जाता है, उसे बनाना बहुत ही आसान है. घटकों की जानकारी के लिए नीचे तालिका देंखें-

Raw MaterialQuantityMeasurement 
Essential Oil (base Oil)1000ml 
Alfox-2001000ml 
Galaxolide (optional)30ml 
DM Water500 (maximum)ml 
Color (optional or as you required)2gm 
Bottle/Container   

नोट-

  • खाद्य उत्पादों में मिलाये जाने वाले परफ्यूम पूरी तरह से प्राकृतिक होते हैं, जिनमें किसी भी प्रकार का कोई भी अन्य तत्व अथवा सामग्री नहीं मिलाई जाती है क्योंकि खाद्य उत्पाद हमारे स्वास्थ्य और सेहत से जुड़े होते है. अतएव यह जरूरी है कि इनमें छेड़छाड़ न की जाए.
  • उपरोक्त बताई गई सामग्री व मात्रा के अलावा अन्य तरीको से भी परफ्यूम को आसानी से बनाया जा सकता है.
  • व्यवसायिक स्तर पर कई तरह की सुगंधों को आपस में मिलाकर (blending) नई-नई सुगंध रेसिपियों को बनाया जाता है.

कहां से लें-

Perfume making business के तहत परफ्यूम बनाने में लिया जाने वाला कच्चा माल/रॉ मटेरियल आपको अपने लोकल केमिकल मार्केट में आसानी से मिल जाता है. साथ ही आप इस रॉ मटेरियल को ऑनलाइन भी नीचे सुझाई गई वेबसाइटों से आसानी प्राप्त कर सकते हैं.

  1. indiamart.com
  2. treadeindia.com
  3. amazon.in

आवश्यक उपकरण व औज़ार (Required equipment and tools – One time investment)-

परफ्यूम बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए इच्छुक उद्यमी को मिक्सिंग और नापतौल के जरूरी उपकरणों व औजारों की जानकारी का ज्ञान होना बेहद जरूरी है.

अमूमन परफ्यूम/सेंट बनाने के लिए रासायनिक लैब के उपकरण जैसे- बीकर, ड्रापर, नापतौल के जग/मग के साथ मिक्सिंग मशीन के अलावा अन्य एक-दो उपकरणों की आवश्यकता होती है.

Base Perfume का चुनाव-

मौजूदा बाजार में ढेर सारे परफ्यूम विविधता के साथ उपलब्ध हैं, इनमें से कुछ परफ्यूमों की सुगंध उपभोक्ताओं/ग्राहकों द्वारा विशेष पसंद की जाती है, और यह परफ्यूम देखा जाए तो हमेशा से सदाबाहर की श्रेणी में भी आते है.

यहां कुछ प्रसिद्द सुंगध वाले परफ्यूम का विवरण दिया जा रहा है. यह पूरी तरह से एक base perfume ही हैं, जिन्हें अकेला भी उपयोग में लिया जाता है और साथ ही इनमें अन्य सुगंध को मिलाकर कई नई सुगंधे भी बनाई जाती है. ये सुगंध हैं-

  1. एप्पल व चमेली (Jasmine)
  2. गेंदा व गुलाब (Rose)
  3. लैवेंडर (Lavender), पिचौली
  4. लेमन व ऑरेंज (Lemon & Orange)
  5. पिचौली व चन्दन
  6. मिटटी (भारत में विशेषकर पसंद की जाने वाली सबसे शानदार खुशबू)
  7. मोगरा व यूकेलिप्टस
  8. लोबान व गुगुल
  9. वनिला, सीडरवुड व अगरवुड

इसके अलावा बहुत से मसालों की भी ढेर सारी खुशबूएं मार्केट में उपलब्ध हैं और विस्तार से जानने के लिए इसे पढ़ें- list of scents, इनमें आप अपनी इच्छानुसार किसी का भी चुनाव कर सकते है. 

परफ्यूम बिजनेस में मैनपावर की आवश्यकता (Required Manpower)-

व्यवसायिक तौर पर परफ्यूम बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए कोई ख़ास मैनपावर की आवश्यकता नहीं पड़ती है. 01 से 02 मैनपावर के साथ परफ्यूम बनाने के कारोबार (कम इन्वेस्टमेंट में अच्छा बिजनेस) को बड़ी ही सरलता से शुरू किया जा सकता है.

इसके अलावा ऊंचे दर्जे की मार्केटिंग करने अथवा करवाने के लिए आपको एक टीम की आवश्यकता हो सकती है. जिसमे मर्केटर, सेल्स पर्सन, एडवरटाईजर आदि हो सकते हैं.

परफ्यूम बनाने की विधि (Process of Perfume making)-

परफ्यूम/सेंट बनाना एक कला है, जिसे प्रयोग दर प्रयोग कर किसी के भी द्वारा आसानी से विकसित किया जा सकता है. अमूमन एक शानदार परफ्यूम बनाने की प्रक्रिया को ….. चरणों पूर्ण किया जाता है. यदि आप प्रयोग करना चाहते हैं तो बताये गए प्रत्येक बिंदु को ध्यान से पढिएगा….

प्रथम चरण-

  • सबसे पहले कांच/प्लास्टिक के पात्र/बीकर, ड्रापर, नापतौल के जग/मग तथा कीप आदि को साफ व स्वच्छ (सैनेटाईज) करना होता है. यह प्रारंभिक चरण सबसे प्राथमिक चरण है.
  • इसके बाद बताई गई मात्रा में Alcohol को पात्र में भरना होता है.
  • इसके बाद वांछित base perfume, Galaxolide, Alfox-200/Proplyn Glycol व Glycerin (वैकल्पिक) को बताई गई निर्धारित मात्रा के अनुसार मिलाकर मिश्रण तैयार किया जाता है.
  • सबसे अंतिम में DM water को बताई गई निर्धारित मात्रा के अनुसार मिलाकर मिश्रण तैयार किया जाता है.

दूसरा चरण-

  • पहला चरण पूर्ण कर लेने के बाद लगभग प्राप्त मिश्रण में सभी घटक अच्छे से मिल जाए, इसके लिए मिश्रण को कम से कम 30 मिनट के लिए ढककर छोड़ दें. हालाँकि आप इसे तुरंत भी इस्तेमाल में ले सकते हैं, लेकिन कुछ समय छोड़ने से आपका उत्पाद पूरी तरह बैलेंस हो जाता है.
  • इसके बाद प्राप्त मिश्रण ही आपका वांछित परफ्यूम है, जिसे वांछित मात्रा की पैकिंग में पैककर पर्सनल उपयोग अथवा बाजार में बिक्री के लिए भेजा जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- कैसे शुरू करें कम लागत में चिप्स बनाने का व्यवसाय

परफ्यूम बिजनेस का पंजीकरण (Business Registration)-

व्यापार की शुरू करने से पहले आपको अपनी कम्पनी/एजेन्सी या फर्म का पंजीकरण कराना अनिवार्य है, क्योंकि पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन लेना ही किसी भी व्यापार को शुरू करने के लिए पहला मानक है. पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन के बाद ही आप अपने उत्पाद का प्रचार मार्केट/बाजार में कर सकते हैं.

भारत सरकार द्वारा विकसित किये गए उद्यमी पोर्टल MSME पर अपने व्यापार की लागत के अनुरूप सूक्ष्म, मध्यम और लघु उद्योग अंतर्गत श्रेणियों में पंजीकरण करा सकते हैं. साथ ही आपको टैक्स आदि के लिए GST No. भी लेना अनिवार्य है, उत्पाद की गुणवत्ता के लिए ISO Certification भी करा सकते हैं.

इन पंजीकरणों के बाद भी यदि आप बाजार में अपना खुद का ब्रांड स्थापित करना चाहते हैं तो आपको

  1. ट्रेड लाइसेंस,
  2. ट्रेडमार्क लाइसेंस,
  3. जिले या राज्य के प्रदूषण विभाग से NOC (No Objection Certificate) लेना होता है.

परफ्यूम की पैकिंग तैयार करना (Prepared Packaging)- 

किसी भी Product की पैकिंग उसके ब्रांड वैल्यू को बनाने और बढ़ाने का काम करती है. परफ्यूम बनाने के व्यवसाय में अच्छा मुनाफा कमाने के लिए इच्छुक उद्यमी को अपने उत्पाद की पैकिंग पर विशेष ध्यान देने कोशिश करे क्योंकि एक शानदार पैकिंग अनचाहे ग्राहकों को भी अपनी ओर आकर्षित करने की क्षमता रखती है.

व्यवसायिक तौर पर परफ्यूम/सेंट को कांच या प्लास्टिक की बोतलों में ही पैक किया जाता है. पैक हो जाने के बाद ही इसे होलसेल या रिटेल दोनों काउंटर पर बिक्री हेतु भेजा जाता है. 

बोतल पर चिपकाने हेतु स्टीकर पैकिंग बनवाने के लिए आप सबसे पहले अपने क्षेत्रीय प्रिंटर्स/मुद्रक से संपर्क करें, यदि आपके क्षेत्र में प्रिंटिंग व डिज़ाइनिंग आदि का काम नहीं होता है तो पैकिंग बनवाने के लिए आप इंटरनेट पर मौजूद वेबसाइटो की मदद ले सकते/सकती है. 

इसे भी देखें- अपने गार्डन में लगायें गरम मसाले का पौधा

सुझाव (Suggestions)- 

  • स्टीकर पैकिंग की डिजाइन के लिए किसी जानकार ग्राफिक्स डिजाइनर की सहायता जरूर लें. साथ ही उत्पाद की पैकेजिंग पर एक प्रेरणा स्लोगन छपवाए जिससे ग्राहक को अपनेपन का अहसास महसूस हो. 
  • बाजार में Product की खपत का आंकलन कर आप बाजार में कई खुशबूओं के परफ्यूम प्रोडक्ट उतार सकते/सकती हैं.

तैयार परफ्यूम का मूल्य निर्धारण (Price Determination)-

एक नए उत्पाद को बाजार में बेचने के लिए सबसे अहम भूमिका निभाता है उसका मूल्य और यह बात सार्वभौम सत्य है कि आज जिस तरह से मंहगाई बढ रही है, उसे ध्यान में रखते हुए आपको अपने उत्पाद का मूल्य इतना रखना चाहिए, जिसे समाज का हर वर्ग आसानी से खरीद सके.

इसलिए बाजार और मंहगाई को देखते हुए आप अपने उत्पाद का मूल्य बाजार में मौजूद अन्य उत्पादों की अपेक्षा कुछ कम ही रखें लेकिन उत्पाद की गुणवत्ता से कोई समझौता न करें.

इसे भी पढ़ें- कम लागत में नेल पॉलिश बनाने का व्यवसाय कैसे शुरू करें

बेहतरीन गुणवत्ता के कारण लोगों/ग्राहकों/उपभोक्ताओं का भरोसा आपके उत्पाद के प्रति बढ़ता जाएगा, जो आपके कारोबार की नई संभावनाएं और सीमाएं तय कर सकता है साथ ही भविष्य में लाभकारी परिणामों वाला भी साबित हो सकता है.

सुझाव- कम मूल्य पर उत्पाद बेचने की शुरुवात आपको अपने लोकल मार्केट से ही करनी चाहिए.

उत्पाद की मार्केटिंग करना (Product marketing)-

Product तैयार हो जाने के बाद सबसे अहम काम होता है अपने उत्पाद के प्रति लोगों को जागरूक करना मतलब अपने उत्पाद की मार्केटिंग करना. मौजूदा बाजार में आज ढेरों ऐसे परफ्यूम उत्पाद हैं जो तगड़ी मार्केटिंग की बदौलत ही एक ब्रांड बनकर उभर चुके हैं.

परफ्यूम बनाने का बिजनेस पूरी तरह से मार्केटिंग आधारित हो चुका है. यदि इच्छुक उद्यमी परफ्यूम/सेंट के कारोबार से बेहतर मुनाफा कमाना चाहता है तो उसे पहले से ही मार्केटिंग रणनीति पर काम करने की आवश्यकता है.

उदहारण के तौर पर इच्छुक उद्यमी सबसे पहले अपने ग्राहकों के इंटरेस्ट को समझे और वे किस प्रकार की सुगंध को अपनाने में बिल्कुल नहीं हिचकते…? साथ ही आप उद्यमी द्वारा जो उत्पाद का मूल्य निर्धारित किया गया है. उस मूल्य को कितने ग्राहक बिना झिझक वहन (afford) कर सकते हैं.

परफ्यूम की मार्केटिंग के लिए इच्छुक उद्यमी द्वारा ऐसे स्थानों का चयन कर वहां पर पोस्टर, बैनर, फ्लैक्स व स्टीकर आदि स्थापित करे, जहां पर अधिकाधिक लोगों का आना जाना बना रहता हो, इसके साथ ही इन स्थानों पर अपने उत्पाद का डेमो करना भी एक प्रभावी मार्केटिंग रणनीति हो सकती है.

इच्छुक उद्यमी अपने परफ्यूम उत्पाद की विस्तृत मार्केटिंग के लिए online digital marketing (जैसे- banner ads, video ads तथा email marketing) भी एक सकारात्मक कारगर रणनीति है. ऑनलाइन मार्केटिंग करने के लिए उद्यमी को एक website setup करना/करवानी होगी. जिसकी लागत 15,000 रूपये तक सालाना आ सकती है.

इसके अलावा जैसे-जैसे आपका कारोबार बढ़ता जाएगा, आप बड़े स्तर के विज्ञापन (अखबार पृष्ठ और पत्रिका पृष्ठ) का भी सहारा ले सकते/सकती हैं.

इसे भी पढ़ें- आटे का व्यवसाय कैसे शुरू करें

सुझाव-

चूंकि आपका उत्पाद अभी मार्केट/बाजार में नया है इसलिए मार्केट में पैठ बनाने के लिए आप अपने product के साथ एक स्कीम जरूर दें.

परफ्यूम बनाने के बिजनेस में लागत (Perfume making business cost)-

परफ्यूम बनाने का बिजनेस/कारोबार शुरू करने के लिए निवेश लागत बहुत सीमित ही आती है. छोटे स्तर पर व्यवसाय शुरू करने इच्छुक उद्यमी को लगभग 10,000 रूपये धनराशी की निवेश लागत आती है.

मध्यम से बड़े स्तर पर परफ्यूम बनाने का बिजनेस/कारोबार शुरू करने के लिए 50,000 से लेकर 5 लाख रुपये तक का निवेश करना पड़ सकता है.

सुझाव-

यदि आप अथवा इच्छुक उद्यमी द्वारा अभी perfume making business की शुरूआत की गई है तो मेरे अनुभव/सुझाव से आप इसे छोटे स्तर से ही शुरू करें… जिससे आपको मार्केट समझने और उत्पाद की खपत का आंकलन करने में सहूलियत हो जाएगी.

परफ्यूम बिजनेस शुरू करने के लिए लोन (Loan for business)-

लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने मेक इन इण्डिया के तहत मुद्रा लोन योजना, प्रधानमंत्री रोजगार योजना (PMRY), कौशल विकास योजना प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) आदि के माध्यम आपको आसानी से ऋण/लोन मिल सकता है. इसके लिए आपको अपनी कंपनी या फर्म के पंजीकरण संख्या से सरकारी योजनाओं के तहत आवेदन करना होगा.

सरकारी योजनाओं के तहत लघु उद्योग हेतु ऋण/लोन लेने के लिए आप अपने क्षेत्रीय या स्थानीय सरकारी बैंक की शाखा से आवश्यक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- कैसे शुरू करें पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय

व्यापार के बिल व ब्यौरा तैयार करना (Prepare Billing for business)-

अधिकतर नए व्यापारी व्यापार शुरू तो कर देते हैं लेकिन लागत के रूप में खर्चे गए पैसों का हिसाब सही ढंग से नहीं रखते, जो कि एक उभरते हुए व्यापारी के लिए अच्छी बात नहीं है. आज के इस डिजिटल ज़माने में अपने खर्चों को सूचीबद्ध करना बहुत ही आसान है. इसके लिए आज ढेरों software और application मौजूद हैं. 

यदि आप एक smart phone अपने पास रखते हैं तो Google play store पर billing और accounting से जुडी ढेरो application मौजूद हैं. आप उनमें से किसी एक उपयोग कर सकते हैं.

इन application में आप अपने तैयार समान के बिल बनाने से लेकर अपनी लागत का ब्यौरा भी सुरक्षित रख सकते है, और इससे आपको पता रहेगा कि आपने अपने बिजनेस में अब तक कुल कितनी लागत लगाई है और कितना मुनाफा कमाया.

परफ्यूम बिजनेस में मुनाफा (Profit in perfume making business)-

मुनाफा या लाभ जो हर एक व्यवसायी, व्यापारी और कारोबारी को सबसे उच्च स्तर का प्राप्त करने की अभिलाषा होती है, मौलिक तौर पर मुनाफा या लाभ शब्द एक ऐसा शब्द है जो हर किसी को एक नई प्रेरणा देता है. 

आप जानते ही होंगे कि परफ्यूम या सेंट मौजूदा पीढ़ी के लिए कितनी अहमियत रखता है. यह तथ्य पूरी तरह से साफ कर देता है कि परफ्यूम बनाने के कारोबार में कितना और किस हद तक मुनाफा कमाया जा सकता है.

अमूमन परफ्यूम के कारोबार से कम से कम लागत का 50 से 70% और वही यदि आप अपने परफ्यूम उत्पाद की शानदार ब्रांडिंग और मार्केटिंग करते अथवा करवाते हैं तो छोटे से छोटे स्तर पर आप लागत पर 02 से 05 गुना तक मुनाफा बड़ी ही सरलता से कमा सकते हैं.

लगातार बदलते फैशन के दौर में यदि इच्छुक उद्यमी अपने ब्रांड को बाजार के दिग्गज ब्रांड के साथ ऊंचे पायदान पर स्थापित करना चाहता है तो ऐसे में उसे बेहतर गुणवत्ता के कम से कम 05 सुगंध को बाजार में उतारना जरूरी है.

FAQ.

फूलों से परफ्यूम कैसे बनाया जाता है?

फूलों से सुगंध को निकालने के लिए आसवन विधि का प्रयोग किया जाता है. आसवन विधि के तहत फूलों को पानी में मिलाकर (02 किलो फूल में आधा लीटर पानी) भभके में उबला जाता है.

इस भभके से निकलने वाली भाप को एक पाइप की मदद से दूसरे पात्र में छोड़ा जाता है, जैसे-जैसे भभके में सामग्री पकती है, फूलों का अर्क भाप के माध्यम से निकलकर दुसरे पात्र में इकठ्ठा होता जाता है.

यही अर्क ही परफ्यूम है. इस परफ्यूम को प्राप्त करने के लिए आसवन की प्रक्रिया को कई बार दोहराना पड़ता है.

आज के समय में कौन से परफ्यूम को उपयोग में लेना सबसे सुरक्षित माना जाता है?

देखिये! मौजूदा समय में परफ्यूम जैसे उत्पाद की मार्केटिंग इतनी तगड़ी की जाती है कि कभी-कभी सबसे अच्छा और उच्च गुणवत्ता का उत्पाद भी आम लोगों तक पहुँच नहीं पाता. यहाँ बात हो रही है उच्च गुणवत्ता वाले परफ्यूम “इत्र” की, जिसे अतर के नाम से भी जाना जाता है.

अंत में-

आज के बदलते परिवेश में फैशन का ट्रेंड रोजाना की दर से बदल रहा है, Verity perfumes की मांग में बढ़ोत्तरी हो रही है, और यह बढ़ोत्तरी हमेशा यूं ही बनी रहने वाली है.

इन सब तथ्यों का गहन आंकलन करने पर परफ्यूम बनाने का बिजनेस, व्यवसाय, उद्यम अपने साथ अनेक संभावनाओं को समाये हुए है. जिसके चलते यदि किसी इच्छुक उद्यमी द्वारा परफ्यूम बनाने का बिजनेस/व्यवसाय शुरू किया जाता है तो यह कारोबार उसके लिए एक बेहतर मुनाफे का विकल्प साबित हो सकता है.

नोट- किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले बाजार/मार्केट रिसर्च एवं खपत का आंकलन अनिवार्य रूप से अवश्य करें. ऐसा करने से आपको व्यवसाय में आने वाले जोखिम और दिक्कतों का सामना करने में आसानी हो जाएगी और बाजार में डिमांड के अनुरूप आप अपने products का निर्माण भी अच्छे से कर पाएंगे.

आशा है आपको इस लेख ‘कम निवेश में शुरू करें परफ्यूम बनाने का बिजनेस’ से perfume making business/उद्यम व व्यवसाय के बारे में पूरी जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही… यदि कुछ छूट गया हो या कुछ पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में जरूर लिखें.

लेख में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ-साथ जरूरतमंद लोगों को share करना न भूलें. आपका एक share किसी को उसके भविष्य की नई दिशा दिखा सकता है. अभी तब तक के लिए इतना ही-

“शुभकामनाएं आपके कामयाब और सफल व्यापारिक भविष्य के लिए.” 

धन्यवाद!

जय हिंद! जय भारत!

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

  1. सर मैंने आपका ब्लॉग पढ़ा इसमे आपने बिजनेस शुरू करने के बहुत से आसान तरीके बताएं हैं.जिससे बहुत लोग अपना बिजनेस स्टार्ट कर रहे हैं इस ब्लॉग के लिए धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular