उत्पाद निर्माण2023 में कैसे शुरू करें पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय |...

2023 में कैसे शुरू करें पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय | How to Start Paper Carry Bag Making Business in 2023

पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय एक सदाबहार चलने वाला व्यवसाय है। पर्यावरण में प्रदूषण को कम करने के उद्देश्य व सिंगल यूज प्लास्टिक कैरी बैग के विकल्प के रूप में इनका सृजन किया गया है। वर्तमान में भारत के कई राज्यों ने प्लास्टिक से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है। 

जिस कारण अब बाजारों में सिंगल यूज प्लास्टिक कैरी बैगों (Single Use Plastic Carry Bags) की पूर्ती के लिए कागज (paper) आधारित Paper Carry Bags और NON Woven Carry Bags का निर्माण व उपयोग में बढ़ोत्तरी होती जा रही है। गुणवत्ता के आधार पर भी पेपर कैरी बैग, प्लास्टिक कैरी बैगों की तुलना में अधिक मजबूत, स्टाइलिश व टिकाऊ और बायो डिग्रेडेबल भी होते हैं। 

पेपर-कैरी-बैग-बनाने-का-व्यवसाय-Paper-Carry-Bag-Making-Business

उपयोगिता के दृष्टिगत किसी भी उद्यमी या कारोबारी के लिए पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय शुरू करना एक लम्बे समय का उच्च लाभ/मुनाफा देने वाला कारोबारी विकल्प साबित हो सकता है। इसके लिए सबसे पहले paper bag making business plan को समझना बेहद जरूरी है.

अनुक्रमिका

विभिन्न प्रकार के पेपर कैरी बैग डिजाइन व उपयोग (Types of Paper Carry Bags & there uses)-

आमतौर पर आज बाजार में कई आकार और रंगों के कागज आधारित Paper Carry Bags देखने को मिल जाते है, जिनमें से मुख्य हैं-

  1. D-Cut Paper Carry Bag
  2. Without Cut Paper Carry Bag
  3. Ribbon Handle Based Paper Carry Bag और
  4. Round Handle Cut Paper Carry Bag

आमतौर पर इन कागज आधारित Paper Carry Bags को शॉपिंग माल, शॉपिंग सेंटर, गिफ्ट स्टोर्स और कपड़ों के स्टोर आदि में महत्वपूर्ण रूप से उपयोग किया जाता है।

इसे भी देखें- बिजनेस में फेल होने के कारण

  • General purpose
  • Industries to pack their semi-finished goods
  • Jewelry packaging
  • Paper bags for medical use
  • Party bags
  • Shopping bags
  • To carry food items

Paper bags are available in Different sizes according to the demand (Size in inch/cm)

  • 5.25X7.5 / 13X19
  • 6.75X8.5 / 17X22
  • 8.25X10 / 21X25
  • 5X 6 / 11X15
  • 9.75X12.75 / 25X34
  • 10.5X16 / 25X34
कैरी-बैग-के-प्रकार-types-of-carry-bags

पेपर कैरी बैग व्यवसाय शुरू करने के लिए रॉ मटेरियल (Raw Material)-

कागज आधारित Paper Carry Bags का निर्माण करने के लिए एक ही रॉ मटेरियल की आवश्यकता होती है, और वह कागज मतलब पेपर. व्यवसायिक तौर उपयोग में लिया जाने वाला कागज (paper) सामान्य कागज से थोड़ा अलग होता है.

बाजार में इस कागज (paper) के अलग-अलग लम्बाई व चौड़ाई के रोल आसानी से मिल जाते हैं और इसे किलोग्राम की इकाई में ख़रीदा जाता है.

हमारे द्वारा किये गए सर्वे के आधार पर पाया गया कि कागज आधारित Paper Carry Bags के निर्माण में उपयोग में लिया जाने वाले अच्छे रॉ मटेरियल की कीमत 90 रूपए प्रति किलोग्राम से शुरू हो जाती है. साथ ही गुणवत्ता चयन के आधार पर इसकी कीमत में थोड़ा-बहुत उतार-चढ़ाव भी संभव है.

इसे भी पढ़ें- पराली वेस्ट से पेपर कैसे बनाया जाता है

कागज आधारित थैले बनाने में लिया जाने वाला पेपर ग्राहकों की डिमांड के आधार पर 60 GSM से शुरू होकर 160 GSM तक हो सकता है. आदर्श रूप से बाजार में 100 GSM मोटाई के Paper Carry Bags का चलन से ज्यादा देखने को मिल जाता है. इसके अतिरिक्त अन्य रॉ मटेरियल हैं-

  1. प्लास्टिक या धातु से बने आइलेट
  2. गोंद (Glue)
  3. मजबूत फीते (Ribbons)

पेपर कैरी बैग व्यवसाय में मशीनरी (paper carry bag making machine)-

पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय शुरू करने के लिए छोटे स्तर पर …. मशीनरी की जरूरत होती है, यह मशीने सेमी ऑटोमेटिक होती हैं. यह मशीने हैं-

  1. कागज (paper) फोल्डिंग मशीन (कीमत- 85,000 रूपए से शुरू)
  2. कागज (paper) हैंडिल कट डाई मशीन (कीमत- 75,000 रूपए से शुरू)
  3. बढ़िया क्वालिटी का गोंद (कीमत- 200 रूपए प्रति किलो से शुरू)

छोटे स्तर पर यदि आप पेपर कैरी बैग बनाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको मात्र 02 मशीनों की ही जरूरत होती है, साथ ही यहां आपको शारीरिक मेहनत अच्छी खासी लगेगी.

वहीं यदि आप Paper Carry Bags का निर्माण माध्यम से बड़े स्तर पर शुरू करना चाहते हैं तो यहां आपको fully ऑटोमेटिक मशीनों (paper bag making machine) की आवश्यकता होगी.

  1. Roller Holding
  2. Stretching Machine
  3. Folding Machine
  4. Handle Dye Cut Machine

इस पूरे ऑटोमेटिक paper bag pants setup की कीमत कम से कम 06 लाख रूपए से शुरू हो जाती है.

नोट- निवेश करने से पहले व्यवसाय को अच्छे समझ, परख व सीख लें, इसके लिए आप सम्बंधित व्यवसायी जो अपना प्लांट अच्छे से चला रहा हो, से संपर्क जरूर करें और इस व्यवसाय में आने वाली समस्याओं को उनसे समाधान जानने की कोशिश जरूर करते रहें.

मशीनरी कहां से खरीदें-

उपरोक्त मशीनरी व रॉ मटेरियल आप अपने लोकल होलसेल मार्केट से ले सकते हैं यदि लोकल बाजार में यह मशीने व मटेरियल नहीं मिल पा रहा हैं तो इस आप ऑनलाइन भी नीचे दी गई वेबसाइटस से खरीद सकते हैं-

  1.  www.indiamart.com 
  2. www.alibaba.com या फिर आप जिसे जानते हैं वहाँ से ऑर्डर दे सकते हैं.

पेपर कैरी बैग व्यवसाय शुरू करने के लिए प्रशिक्षण (Training for Paper Carry Bags Making)-

Paper Carry Bags का निर्माण करने के लिए आपको प्रशिक्षण खादी-ग्रामोद्योग से मिल जाएगा, जहां आपको विभिन्न तरीके से पेपर कैरी बैग बनाने की तकनीके, paper bag craft करना, अलग-अलग paper bag design बनाना सिखाया और बताया जाता हैं. Paper से बने bags अथवा पेपर कैरी बैग निर्माण करने से पहले प्रशिक्षण लेना जरूरी एवं प्राथमिक चरण है.

पेपर कैरी बैग बनाने की विधि (Process of Paper Carry Bags Making)-

छोटे स्तर पर Handmade Paper Carry Bags का निर्माण अथवा पेपर बैग बनाने की विधि को…. चरणों में किया जाता है-

paper-carry-bag-business
  • प्रथम चरण- सबसे पहली शुरुआत कागज (paper) के रोल से वांछित साइज़ के बैगों को काटने से की जाती है, काटने के लिए कैंची आदि का उपयोग किया जा सकता है. इसके बाद वांछित या इच्छानुसार मोड़ा या फोल्ड किया जाता है.
  • दूसरा चरण- प्रथम चरण के बाद कटे व इच्छानुसार मोड़े गए बैगों को कागज (paper) पेपर फोल्डिंग मशीन की मदद से फोल्ड/मोड़ा जाता है. यहां कैरी बैगों को ध्यान देकर निश्चित नाप में फोल्ड करना अनिवार्य है.
  • तीसरा चरण- कैरी बैगों के फोल्ड हो जाने के बाद इन बैगों को paper हैंडिल कट डाई मशीन से वांछित D-Cut, Round-Cut डाई से काट दिया जाता है अथवा Ribbon handle लगाकर तैयार कर लिया जाता है. बैगों के कट व रिबन डोरी लग जाने के बाद प्राप्त उत्पाद ही पूरी तरह से तैयार पेपर से बना कैरी बैग होता है, इसके बाद यदि आवश्यकतानुसार इस पर छपाई आदि कर अथवा करवा सकते हैं.

वहीं बड़े स्तर पर Paper Carry Bags को बनाने का काम पूरी तरह से ऑटोमेटिक मशीनों से किया जाता है.

इसे भी पढ़ें- अपने बिजनेस का विस्तार कब और कैसे करें

  • सबसे पहले कागज (paper) के रोल को Roller Holding cylinder पर फिक्स किया जाता है.
  • इसके बाद कागज (paper) में सिलवटे आदि पड़ने से रोकने के लिए कागज (paper) को ताना/स्ट्रेच Stretching Machine से किया जाता है.
  • स्ट्रेच हो जाने के बाद अगले स्तर पर कागज (paper) को थैलों/Bags के वांछित आकार के साइज़ पर Folding Machine की मदद से मोड़ा अथवा फोल्ड किया जाता है. यह सब काम पूरी तरह से ऑटोमेटिक तरीके से होता है, क्योंकि बैग बनाने की सारी प्रोग्रामिंग मशीनों में पहले ही की जाती है, साथ ही आप इसमें फेर बदल कर अपनी इच्छानुसार किसी भी तरह का कैरी बैग बना सकते हैं.
  • फोल्ड हो जाने के बाद कागज के थैलों के निर्धारित स्थान पर गोंद लगाकर सील किया जाता है, जब थैलों में लगा गोंद अच्छे से चिपककर सूख जाता है तो पेपर कैरी बैग तैयार हो जाता है.
  • इसके बाद सबसे अंतिम में थैलों में हैंडिल आदि बनाने के लिए आवश्यकतानुसार या इच्छानुसार Handle Dye Cut Machine में D-Cut डाई लगाकर काट लिया जाता है अथवा Ribbon handle लगाकर तैयार कर लिया जाता है. हैंडिल बन जाने के बाद प्राप्त उत्पाद ही पूरी तरह से तैयार कैरी बैग होता है, इसके बाद आप आवश्यकतानुसार इस पर छपाई आदि कर अथवा करवा सकते हैं.

पेपर कैरी बैग्स पर छपाई (Printing On Paper Carry Bags)-

अमूमन बाजार में सामान्य तौर पर सादे या बिना प्रिन्ट के पेपर कैरी बैग देखने को अधिक संख्या में मिलते हैं. लेकिन मार्केटिंग के लिहाज से कैरी बैगों पर ब्रांड आदि नाम की छपाई करना एक सकारात्मक प्रभाव डालता है. एक मैनुफैक्चर के रूप में आप अपने खरीददारों को इसका महत्व जरूर समझाएं.

नोट- पेपर कैरी बैगों पर छपाई पूरी तरह से वैकल्पिक है. लेकिन प्रचार/मार्केटिंग के लिहाज से पेपर कैरी बैगों पर ब्रांड नाम आदि छपाई करना/करवाना बिना खर्च की उत्तम मार्केटिंग रणनीति में से एक है.

पेपर कैरी बैग व्यवसाय में मैनपावर की आवश्यकता (Required Manpower)-

छोटे स्तर पर हाथों से पेपर कैरी बैग बनाने का कारोबार/व्यवसाय शुरू करने के लिए कम से कम 03 मैनपावर/कर्मियों की आवश्यकता होती है। ये मैनपावर मार्केटर, कुशल श्रमिक व सफ़ाई कर्मी आदि हो सकते हैं. 

वही यदि आप बड़े स्तर पर कागज के कैरी बैग (Paper Based Carry Bags) बनाने का कारोबार/बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो बड़े स्तर पर आपको कम से 03 से 05 मैनपावर/कर्मियों की आवश्यकता होगी. ये कर्मी मैनेजर, अकाउंटेन्ट, मशीन ऑपरेटर/मेन्टेनसकर्ता, मार्केटर, कुशल श्रमिक व सफ़ाई कर्मी आदि हो सकते हैं.

पेपर कैरी बैग व्यवसाय के लिए आवश्यक स्थान (Required Area)-

छोटे स्तर पर हाथों से पेपर कैरी बैग बनाने अथवा निर्माण करने का व्यवसाय शुरू करने के लिए कम से कम 500 sqft. area की आवश्यकता होती है, जहां सभी जरूरी मशीनो को install कर Paper carry bags making business आसानी से शुरू किया जा सकता है। 

चयनित स्थान पर इलेक्ट्रिक (बिजली) व कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था का होना जरूरी है.

वही बड़े स्तर पर Paper carry bags manufacturing unit plant स्थापित करने के लिए कम से कम 1000 से 1500 sqft. स्थान की आवश्यकता होती है। साथ ही आपको ऐसे स्थान का चुनाव करना चाहिए जो बाज़ार/मार्केट के आस-पास का क्षेत्र हो, जहां वाहनों का आना-जाना (आवागमन) सुगमता से होता हो, यह स्थान अगर किसी कमर्शियल क्षेत्र के अंतर्गत आता हो तो सबसे उत्तम है।

इसे भी पढ़ें- गोबर से ईंट बनाने का व्यवसाय

पेपर कैरी बैग व्यवसाय का पंजीकरण (Business Registration)-

किसी भी व्यवसाय/कारोबार शुरू करने से पहले एक उद्यमी को अपने व्यवसाय या कारोबार की कम्पनी या फर्म का पंजीकरण कराना अनिवार्य है, क्योंकि किसी भी व्यापार को शुरू करने के लिए पहला मानक पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन लेना होता है.

छोटे व बड़े दोनों स्तरों पर Paper Carry Bags Manufacturing Unit स्थापित करने के लिए भारत सरकार द्वारा निर्धारित किए गए मानक प्रमाण पत्रों से पंजीकृत कराना अनिवार्य है। यह पंजीकरण हैं-

  1. MSME Registration
  2. GST No.
  3. NOC Certificate from Pollution Department & Fire Control Board
  4. BIS (Bureau of Indian Standards)

पेपर कैरी बैग व्यवसाय की कुल लागत (Total Business Cost)-

यदि आप कागज से बने पेपर कैरी बैग बनाने का कारोबार या paper bag manufacturers बनाना चाहते हैं तो इस व्यवसाय के पूरे automatic setup में कम से कम लगभग 06 से 09 लाख रुपए (GST अलग से) की पूंजी का निवेश करना होगा। यह निवेश मशीनों, स्थान, कच्चे माल की क्रय दर के अलावा मैनपावर के चयन पर घट अथवा बढ़ भी सकता है।

वहीँ छोटे स्तर पर यह न्यूनतम लागत कम से कम 03 लाख रूपए की आवश्यकता होगी. छोटे स्तर पर निवेश की यह दर स्थान चुनाव, कच्चे माल की क्रय दर के अलावा मैनपावर के चयन पर घट अथवा बढ़ भी सकती है।

इसे भी पढ़ें- घर से शुरू करें फिटकरी बनाने का बिजनेस

पेपर कैरी बैग व्यवसाय के लिए लोन (Loan for Business)-

लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने मेक इन इण्डिया के तहत प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना (PMEGP), कौशल विकास योजना आदि के माध्यम आपको आसानी से ऋण/लोन मिल सकता है. इसके लिए आपको अपनी कंपनी या फर्म के पंजीकरण संख्या से सरकारी योजनाओं के तहत आवेदन करना होगा.

सरकारी योजनाओं के तहत लघु उद्योग हेतु ऋण/लोन प्राप्त करने के लिए अपने क्षेत्र की सरकारी बैंक की शाखा से अवश्यक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

पेपर कैरी बैग व्यवसाय की मार्केटिंग (Marketing for Paper Carry Bags Making Business)-

पेपर कैरी बैग व्यवसाय में कोई खास मार्केटिंग की जरूरत नहीं होती, क्योंकि यह एक ऐसा उत्पाद है, जिसका उपयोग आज लगभग प्रत्येक व्यक्ति द्वारा रोजमर्रा की चीजों को लाने व ले जाने के रूप में किया जाता है.

लेकिन फिर भी प्रारंभिक तौर या शुरुआती स्तर पर आप अपने क्षेत्र के थोक/खुदरा (paper carry bags wholesale/retail) दुकानों जैसे-

Bakeries, Book Shops, Fancy Stores, Fruits And Vegetable Shops, General, Purpose, Gift Store, Grocery Shops, Hardware Shops, Industries To Pack Their Semi-Finished Goods, Jewelry Stores, Meat/Fish Shops, Medical Shops, Party Bags, Shoes Shops, Shopping Bags, Snacks Stores, Stationery Shops, Sweet Shops, Textile Shops व कॉस्मेटिक आदि के दुकानदारों से बात करके अपने उत्पाद की जानकारी अनिवार्य रूप से जरूर दें. साथ ही विक्रय दर का विशेष ध्यान रखें.

Online market

B2B Websites: Register your business on B2B websites like

  • Indiamart
  • Tradeindia
  • Exportersindia

Etc. you can sell your product on bulk orders.

B2C Websites: Register your business on B2C websites like

  • Amazon
  • Flip kart
  • Snap deal
  • Big basket

पेपर कैरी बैग व्यवसाय में मुनाफा-

सामान्य तौर पर पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय में रॉ मटेरियल या कच्चे माल को 70 से 110 रुपए प्रति किलो की दर से खरीदा जाता है।

जिसे मशीनों द्वारा Process से गुजार कर तैयार उत्पाद को 150 से 250 रुपए प्रति किलो की दर से अन्य को आसानी बेचा अथवा विक्रय किया जाता है। जहां मुनाफा सभी देनदारियां चुकाने के बाद 30 से 70 रुपए प्रति किलो तक लिया या कमाया जा सकता है।

वहीँ यदि आप रंग-बिरंगे फैंसी paper carry bags की manufacturing करते हैं तो आपके लाभ की सम्भावना बढ़ जाती है. सामान्य तौर पर एक 15 X 10 X 4 इंच shopping paper bag को बनाने में 07 से 09 की लागत आ जाती है,

जिसे थोक बाजार में कम से कम 15 रूपए प्रति पीस की दर से बेचा जाता है. वहीं खुदरा बाजार में इसी paper bag price लगभग 22 से 25 रुपए प्रति पीस होती है.

FAQ.

मैनुअल/हाथों से पेपर बैग कैसे बनाएं?

मैनुअल तरीके से अथवा हाथों से पेपर बैग/थैले बनाना बहुत ही आसान है. यदि आप साधारण लिफाफा बनाना जानते हैं तो थोड़े से फेर बदल करने से पेपर कैरी बैग का भी निर्माण आसानी से कर सकते हैं.

इसके आलावा YouTube पर कई वीडियो देख कर भी सीख सकते हैं. ओरेगामी की किताब से भी पेपर आधारित क्राफ्टिंग भी आसानी सीखी जा सकती है.

paper carry bag के व्यवसाय में मुनाफा होता भी है या नहीं?

जब से सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन लगा है, बायोडिग्रीडेबल उत्पादों की मांग बढ़ोत्तरी होती ही जा रही है. ऐसे में पेपर जो कि बायोडिग्रीडेबल उत्पाद है से बने उत्पादों का व्यवसाय शुरू करना एक मुनाफे का विकल्प साबित हो रहा है.

पेपर कैरी बैग की बाजार में कैसे बिक्री की जाती है?

खुदरा व होलसेल बाजार में कैरी बैगों की खरीद फरोख्त प्रति पीस अथवा किलोग्राम की दर से की जाती है.

अंत में-

आज जैसे-जैसे हमारा समाज स्वच्छता और पर्यावरण के प्रति जागरूक हो रहा वैसे-वैसे कागज आधारित पेपर कैरी बैग की उपयोगिता और Paper Carry Bags Making Business में नई संभावनाएं पैदा होती जा रही है।

डिमांड/मांग व पर्यावरण की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए Paper Carry Bags बनाने का व्यवसाय लगाना या शुरू करना एक फायदेमंद विकल्प साबित हो रहा है। जिसे अपनाकर कोई भी इच्चुक उद्यमी/व्यवसायी/कारोबारी लम्बे समय तक अच्छा मुनाफा ले अथवा कमा सकता है.

नोट किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले बाजार/मार्केट रिसर्च एवं खपत का आंकलन अनिवार्य रूप से अवश्य करें. ऐसा करने से आपको व्यवसाय में आने वाले जोखिम और दिक्कतों का सामना करने में आसानी हो जाएगी और साथ ही बाजार में डिमांड के अनुरूप आप अपने products का निर्माण भी अच्छे से कर पाएंगे.

आशा है आपको इस लेख कैसे शुरू करें पेपर कैरी बैग बनाने का व्यवसाय’ से कैरी बैग बनाने के व्यवसाय व कारोबार के बारे में पूरी जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही… यदि कुछ छूट गया हो या कुछ पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में जरूर लिखें. तब तक के लिए-

शुभकामनाएं आपके कामयाब और सफल व्यापारिक भविष्य के लिए.” 

धन्यवाद!

जय हिंद! जय भारत!

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular