बिजनेस आईडियाघर से कैसे शुरू करें पैकेजिंग बिजनेस | How to start Packaging...

घर से कैसे शुरू करें पैकेजिंग बिजनेस | How to start Packaging Business from Home in hindi

पैकेजिंग बिजनेस (Packaging Business): अगर सदाबहार चलने वाले कारोबार की बात की जाए तो पैकिंग निर्माण का कारोबार अथवा पैकेजिंग बिजनेस (Packaging Business) पहले पायदान पर ही सुशोभित होता दिखाई देगा. जी हां, यह बात बिल्कुल 100% सच है.

किसी भी उत्पाद के बाजार में आने से पहले उसे एक शानदार और आकर्षक पैकिंग/पैकेजिंग (attractive packing) में पैक कर ही मार्केट में उतारा अथवा भेजा जाता है. उत्पाद की पैकेजिंग/पैकिंग उत्पाद को सुरक्षा देने के साथ उत्पाद की ब्रांड वैल्यू को भी बढ़ाने का काम करती है.

packaging-business-पैकेजिंग-बिजनेस

आपकी नजर भी किसी उत्पाद को खरीदने से पहले उसकी पैकिंग पर ही जाती है. व्यापक स्तर पर की गई उत्पाद की पैकिंग/पैकेजिंग से जब आप संतुष्ट होते हैं तो निशिचत ही आप उसे खरीदने का प्रयास करते हैं. अपने विषय पर आगे बढ़ने से पहले एक प्रश्न जिसे समझना बेहद जरूरी है-

अनुक्रमिका

पैकिंग और पैकेजिंग में क्या अंतर है (what is the difference between packing and packaging)?

वांछित उत्पाद की व्यक्तिगत अथवा उपहार के तौर (बिना मुनाफे) पर की गई जिल्दसाजी “पैकिंग (packing)” कहलाती है. जबकि लाभ कमाने की दृष्टी से उपभोक्ता/ग्राहक की इच्छानुसार अनुसार बल्क में की गई उत्पादों की पैकिंग “पैकेजिंग (packaging)” कहलाती है.

पैकेजिंग बिजनेस का महत्व (Importance of Packaging Business idea)-

आज हम बाजार से जो भी छोटे से छोटा और बड़े से बड़ा उत्पाद अथवा चीज खरीदते हैं, तो सबसे पहले हमारी नजर उसकी पैकेजिंग (पैकिंग) पर ही जाती है, जहां से पैकेजिंग (पैकिंग) पर छपे उत्पाद के विवरण और उत्पाद की उपयोगिता की जानकारी प्राप्त होती है.

यह पैकेजिंग (पैकिंग) ही होती है जो उत्पाद को उपयोग में लेने के लिए ग्राहकों/उपभोक्ताओं को अपनी ओर आकर्षित करने का काम करती है. 

पैकेजिंग (पैकिंग) की विविधता और उपयोगिता को देखते हुए, आज पैकेजिंग (पैकिंग) बिजनेस अच्छे से फल-फूल रहा है, और इस बिजनेस में अच्छा लाभ कमाने की अपार संभावनाएं हमेशा ही मौजूद रहती है. 

तो अब प्रश्न उठता है कि यदि आप या अन्य कोई इच्छुक उद्यमी/व्यवसायीय व कारोबारी पैकिंग/पैकेजिंग बिजनेस को शुरू कर अच्छा मुनाफा कमाना चाहता है तो Packaging business opportunity एक लाभकारी विकल्प साबित हो सकता है. तो पैकेजिंग बिजनेस को शुरू करने के लिए उसे किन-किन घटकों अथवा चीजों की आवश्यकता होगी?

मसलन- पैकेजिंग बिजनेस शुरू करने की रणनीति क्या होती है, पैकेजिंग/पैकिंग के लिए उत्पाद का निर्धारण करना, बिजनेस स्थापित करने के लिए आवश्यक स्थान व पंजीकरण, साथ यह भी जानना जरूरी है कि पैकेजिंग (पैकिंग) निर्माण बिजनेस में कम से कम कितने कर्मचारियों/मैनपावर की आवश्यकता होती है?

इन सब तथ्यों के अलावा इच्छुक उद्यमी/व्यवसायीय व कारोबारी को पैकेजिंग (पैकिंग) बिजनेस स्थापित करने से पहले packing/packaging business plan और packaging business idea को अच्छे से समझना जरूरी है. क्योंकि पैकेजिंग/पैकिंग का कारोबार छोटे व बड़े दोनों स्तर पर शुरू किया जा सकता है.

packaging-business-from-home-पैकेजिंग-बिजनेस

तो यह जरूरी है कि आप या अन्य इच्छुक उद्यमी/व्यवसायीय व कारोबारी किसी भी निवेश से पहले packaging/packing business idea को अच्छे से जरूर समझे, उसके बाद ही कोई निवेश करें. तो चलिए शुरू करते है पैकेजिंग (पैकिंग) बिजनेस पर चर्चा-

पैकेजिंग बिजनेस के तहत पैकिंग के लिए डिज़ाइन तैयार करना (Preparation of designs for packing under the packaging business)-

एक रचनात्मक दिमाग (Creative Mind) के लिए कुछ भी मुश्किल नहीं होता है. यदि आप पैकेजिंग (पैकिंग) निर्माण बिजनेस के क्षेत्र में आना चाहते हैं तो आपको अपने दिमाग की रचनात्मक क्षमता को उन्नत बनाने पर ध्यान देने की जरूरत है. क्योंकि जब भी कोई नया product बनकर तैयार होता है तो उसे अपनी ब्रांड वैल्यू बनाने के लिए एक सुन्दर और आकर्षक डिजाइन व इस डिजाइन से तैयार पैकिंग की आवश्यकता होती है. 

पैकेजिंग में डिजाइन ही वह घटक है जो किसी भी उत्पाद की बाजार में ब्रांड वैल्यू बनाने व ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने का काम करता है. एक नई पैकेजिंग को डिजाइन करने के लिए इच्छुक उद्यमी को कुछ computer designing कोर्स जैसे- DTP व coral आदि का अच्छा ज्ञान होना जरूरी है.

यदि इच्छुक उद्यमी को इस कोर्स का ज्ञान नहीं है तो वह पैकेजिंग की डिजाइन किसी एक्सपर्ट डिजाइनर से भी करवा सकता है. पैकेजिंग डिजाइन के अंतर्गत आने वाले उत्पाद लगभग सभी तरह के प्रिंटिंग मटेरियल जैसे- उत्पाद के लेबल, स्टीकर, पाउच व बैग आदि.

असल में पैकिंग डिज़ाइनिंग का बिजनेस भी खुद एक विस्तृत independent business है. किसी भी नए उत्पाद की पैकेजिंग तैयार करने अथवा करवाने के लिए सबसे पहले डिज़ाइनिंग की ही जरूरत होती है.

पैकेजिंग बिजनेस में लिए जाने वाले रॉ मटेरियल (Raw Material in packaging business)-

सबसे पहले बात करते हैं पैकेजिंग (पैकिंग) बिजनेस/बिजनेस में लिए जाने वाले रॉ मटेरियल/कच्चे माल की. तो मौजूदा बाजार/मार्केट के अनुसार पैकेजिंग (पैकिंग) निर्माण बिजनेस को शुरू करने के लिए कई तरह के रॉ मटेरियल/कच्चे माल की जरूरत होती है. जैसे-

  1. प्लास्टिक शीट आधारित पैकेजिंग– जिसमें प्लेन पालीथिन/प्लास्टिक शीट, एयर बबल शीट (Air bubble sheet), मोल्डिंग प्लास्टिक आदि आते हैं, मोल्डिंग प्लास्टिक पैकेजिंग जो प्लेन पालीथिन शीट को ढाल कर तैयार की जाती है.
  2. कागज़ आधारित पैकेजिंग– जिसमें कागज के डिब्बे, गत्ते, अबरी (सादे व डिजाइनर पेपर), कार्ड-बोर्ड बॉक्स (Cardboard box), नालीदार बक्से (Corrugated boxes) आदि आते हैं.
  3. थैले आधारित पैकेजिंग– जिसमें हर तरह के बैग- प्लास्टिक बैग (Plastic bags), पेपर बैग (Paper bags), फैब्रिक बैग (fabric bags), कपड़े के बैग (cloth bags), ब्लड बैग (Blood bags) व जूट के बैग (Jute bags) आदि आते हैं. 
  4. धातु आधारित पैकेजिंग– जिसमें एल्युमीनियम डिब्बे (Aluminum cans) व एल्यूमीनियम शीट (Aluminum foil) आदि आते हैं. इनका उपयोग अधिकतर खाद्य आधारित उत्पादों की पैकेजिंग में किया जाता है.

कितने तरह से पैकेजिंग की जाती है?

मौजूदा बाजार में अमूमन 02 तरह की पैकेजिंग देखने को मिलती है-
1. पारंपरिक पैकेजिंग (Traditional Packaging)
2. आधुनिक पैकिंग (Modern Custom Packaging)

पारंपरिक पैकेजिंग (Traditional Packaging)-

जिसे अधिकतर हाथों से किया जाता है, और जिसे थोड़े निवेश के साथ घर (packing business from home) से भी आसानी से शुरू किया जा सकता है. आज कई ऐसे बिजनेस मौजूद हैं जहां पर उत्पाद की पैकेजिंग हाथों से ही कच्चे माल को प्रोसेस (डिजाइन) कर की जाती है.

packaging-business-from-home-घर-से-शुरू-करें-पैकेजिंग-बिजनेस

आधुनिक पैकिंग (Modern Custom Packaging)-

आज बाजार में कई ऐसे उत्पाद मौजूद हैं, जिनकी डिमांड सामान्य की अपेक्षा बहुत अधिक होती है, इसलिए इन उत्पादों की पैकेजिंग मशीनों की सहायता से तैयार की जाती है और फिर उत्पाद को पैकिंग में हाथों व मशीनों से पैक किया जाता है.

दोनों ही तरह की पैकेजिंग देखने में सुन्दर और आकर्षक होती है और दोनों ही तरह की पैकेजिंग का उपयोग व्यक्तिगत व व्यवसायिक स्तर पर बड़ी मात्रा में किया जाता है.

पैकेजिंग बिजनेस स्थापित करने के लिए वांछित स्थान (Required area for Packaging Business)-

पैकेजिंग बिजनेस एक स्थायीय स्थान पर किया जाने वाला कारोबार है, साथ ही packaging business स्थापित करने के लिए आवश्यक स्थान निर्भर करता है कि आप पैकेजिंग के कारोबार को किस स्तर पर शुरू करना चाहते हैं- वैसे पैकेजिंग का कारोबार अमूमन 03 स्तरों पर देखने को मिलता है-

छोटा स्तर (Packaging Business at Small Scale)-

छोटे स्तर पर पैकिंग का बिजनेस स्थापित करने के लिए कम से कम 80 से 500 sqft स्थान की आवश्यकता होती है. अगर आपके घर पर ही पर्याप्त स्थान मौजूद है तो छोटे स्तर पर पैकेजिंग का काम आप घर से भी आसानी से शुरू कर सकते हैं. अमूमन छोटे स्तर पर लिफाफे, कागज के बैग और छोटे डिब्बे आदि की पैकेजिंग की जाती है.

इसे भी देखे- कम निवेश के साथ शुरू करें पशु आहार बनाने के व्यवसाय

मध्यम स्तर (Packaging Business at Medium Scale)-

मध्यम स्तर पर पैकेजिंग बिजनेस स्थापित करने के लिए कम से कम 500 से 1000 sqft स्थान की आवश्यकता होती है. अमूमन मध्यम स्तर पर छोटे स्तर की सभी कार्यों के साथ कुछ ऐसे उत्पाद भी शामिल होते हैं जिसकी छोटे स्तर पर पैकेजिंग कर पाना कठिन होता है.

बड़ा स्तर (Packaging Business at Broad Scale)-

बड़े स्तर पर पैकिंग/पैकेजिंग बिजनेस स्थापित करने के लिए कम से कम 800 से 2000 sqft स्थान की आवश्यकता होती है. अमूमन बड़ी मात्रा में पैकेजिंग तैयार करने के लिए कुछ चुनिन्दा मशीनों की खरीद और मैनपावर की जरूरत होती है. बड़े स्तर पर लगभग हर तरह के उत्पाद की पैकेजिंग को चरण दर चरण पूरा किया जाता है. 

पैकिंग पैकेजिंग बिजनेस शुरू करने के लिए मैनपावर की आवश्यकता (Require Manpower in Packaging Business)-

पैकिंग/पैकेजिंग बिजनेस (Packaging Business) में मैनपावर अथवा कर्मचारियों की सबसे अहम भूमिका होती है, क्योंकि आज भी बहुत सारे उत्पाद मैनपावर लगाकर हाथों से ही पैक किये जाते हैं.

ऐसा इसलिए क्योंकि उत्पाद को पैकिंग करने वाली मशीने बहुत ही उंचे दामों की होती हैं, यदि आवश्यकता न हो तो छोटे व नए उभरते कारोबारी इन पैकिंग मशीनों को खरीदने से कतराते हैं, जिस कारण मैनपावर अथवा कर्मचारियों का महत्व और भी बढ़ जाता है.

  • छोटे स्तर पर पैकिंग/पैकेजिंग बिजनेस शुरू करने के लिए 02 से 04 कर्मचारियों की ही आवश्यकता होती है. हमारी टीम द्वारा किये गए सर्वे में पाया गया कि कई महिलाएं संगठन बनाकर छोटे स्तर की पैकेजिंग को आसानी से संचालित कर अच्छा मुनाफा कमा रही हैं.
  • बड़े स्तर पर पैकिंग/पैकेजिंग का कारोबार (Packing Business) करने के लिए कम से कम 10 से 20 मैनपावर अथवा कर्मचारियों की आवश्यकता होती है. साथ ही मैनपावर की यह संख्या इस बात पर भी निर्भर करती है कि कितने उत्पादों की पैकेजिंग की जानी है और कितनी क्षमता में की जानी है. 

पैकेजिंग बिजनेस का पंजीकरण (Registration of Packaging Business)-

पैकेजिंग बिजनेस शुरू करने के लिए आपको इन लाइसेंसों को लेना जरूरी है-

  1. MSME Registration (सूक्ष्म, मध्यम एवं लघु उद्योग पंजीकरण)
  2. GST Registration (जीएसटी पंजीकरण)
  3. NOC from Pollution Control Board

छोटे स्तर पर या घर से शुरू करने के लिए आप केवल भारत सरकार द्वारा विकसित किये गए उद्यमी पोर्टल MSME पर अपने व्यापार की लागत के अनुरूप सूक्ष्म, मध्यम और लघु उद्योग अंतर्गत किसी एक श्रेणी में पंजीकरण करा सकते हैं, साथ ही आपको टैक्स आदि के लिए GST No. भी लेना अनिवार्य है। 

पैकेजिंग बिजनेस की लागत (Estimated Cost of Packaging Business Startup)-

पैकेजिंग बिजनेस/व्यापार को बड़े ही छोटे निवेश से शुरू किया जा सकता है, छोटे स्तर पर शुरू करने के लिए कम से कम 10 हजार रुपए की लागत लगती है जिसमें आपको रॉ मटेरियल, छोटे स्तर की पैकिंग मशीन लेना होगा। जिसे आप अपने घर से भी शुरू कर सकते हैं। 

अगर आप पैकेजिंग के कारोबार क्षेत्र में आना चाहते हैं तो मेरी राय यही है कि आप इसे कम पूंजी लगाकर इसे छोटे स्तर पर घर से ही शुरू करें। जिससे आप भारी/अवांछित जोखिम से बच सकते हैं और छोटे स्तर पर व्यापार करने से आपको बाजार को समझने का मौका भी मिलता है। 

वहीं अगर आप इस बिजनेस को बड़े स्तर पर करना चाहते हैं तो आपको बड़ी  पैकिंग मशीनरी (ऑटोमेटिक, सेमी-ऑटोमेटिक) और बड़ी मात्रा में कच्चे माल की व मैनपावर आदि की जरूरत पड़ेगी इस complete setup की लागत लगभग 01 लाख रूपए से शुरू हो जाती है। जिसमें रॉ मटेरियल की विस्तृत क्रय दर, चयनित स्थान पर लागत व अन्य मैनपावर आदि पर लागत सम्मिलित नहीं है.

नोट-

बड़े स्तर पर बताई गई संभावित लागत धनराशी उत्पाद के आकार व पैकेजिंग मात्रा पर बढ़ अथवा घट सकती है.

पैकेजिंग बिजनेस/कारोबार में मुनाफा (Profit in Packaging Business)-

मौलिक तौर पर मुनाफा या लाभ शब्द एक ऐसा शब्द है जो हर किसी को एक नई प्रेरणा देता है। पैकेजिंग (पैकिंग) के कारोबार में मुनाफे की सीमा कोई तय नहीं है, पैकेजिंग (पैकिंग) जैसे बिजनेस में मुनाफा पूरी तरह से उत्पाद पर निर्भर करता है, मतलब उत्पाद जितना अधिक मात्रा में बनेगा पैकेजिंग की उतनी ही अधिक मांग बढ़ेगी.

बड़े स्तर पर मुनाफे की बात करें तो उत्पाद की गुणवत्ता  और ग्राहक पहुंच के आधार पर पैकेजिंग (पैकिंग) बिजनेस से हर महीने 30,000 से 80,000 रूपए या इससे भी ऊपर भी आसानी से कमाया जा सकता है।

नोट-

यह संभावित मुनाफा धनराशि पैकेजिंग (पैकिंग) के लिए चुने गए रॉ मटेरियल व तैयार पैकिंग/पैकेजिंग की गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है.

FAQ.

पैकिंग व्यवसाय कैसे शुरू करें (how to start a packing business)?

पैकिंग के व्यवसाय को शुरू करने से पहले इच्छुक उद्यमी को इन बातों पर ध्यान देना जरूरी है-
1. एक शानदार व्यवसायिक रणनीति पर ध्यान देना
2. उत्पाद का चयन
3. स्थान का चयन
4. पैकिंग मटेरियल का विस्तृत ज्ञान व पैकिंग डिजाइन आंकलन पर ध्यान
5. उत्पाद लाने व ले जाने के उपक्रम पर ध्यान देना
6. ग्राहक की मनोदशा (पसंद व नपसंद) पर विशेष ध्यान
7. फीडबैक पर विशेष ध्यान

पैकेजिंग क्यों आवश्यक है (Why is packaging necessary)?

किसी भी उत्पाद की बाजार में ब्रांड वैल्यू बनाने व उपयोगिता के महत्व को उजागर करने के लिए पैकेजिंग अथवा पैकिंग की जाती है. मौजूदा समय में किसी भी उत्पाद की पैकिंग वह सबसे पहला घटक है जिससे पता चलता है कि उपाद कितना प्रभावी है.

घर पर पैकिंग का काम कैसे करें (how to start packaging business at home)?

घर पर पैकिंग का काम करने के लिए इच्छुक उद्यमी को ऐसे उद्यमों/बिजनेस का सर्वे करने की आवश्यकता है. जहां पर लगातार और बड़ी मात्रा में पैकिंग मटेरियल की आवश्यकता होती रहती हो. ऐसे बिजनेस हो सकते हैं- मिष्ठान भंडार, गारमेंट शाप, गिफ्ट शाप, कॉस्मेटिक शाप व गैजेट्स स्टोर्स आदि.

राजधानी लखनऊ में! हमारे द्वारा किये गए एक सर्वे में एक उद्यमी थोक मार्केट से फैंसी झुमके, कंगन, बाले व फैंसी हार (नेकलेस) आदि लेकर उसकी शानदार मनमोहक पैकिंग कर अपने स्थानीय बाजार की दुकानों में बिक्री कर मासिक तौर पर बेहतर मुनाफा कमाता है.

प्रति महिना मुनाफा पूछने पर उनके द्वारा बताया गया कि “सब पैकिंग का खेल है” 5,000 रूपये की लागत पर आसानी से 09 से 11 हजार तक बन जाता है, जिसमें सभी कटौतियों को काटने के बाद ठोस मुनाफा 1800 से लेकर 2500 रूपये तक होता है.

अंत में-

एक सदाबहार चलने वाला बिजनेस स्थापित करना हमेशा ही सबसे अच्छे विकल्पों में से एक होता है जिससे लम्बे समय तक अच्छा मुनाफा भी कमाया जा सकता है.

हमारा उद्देश्य उन इच्छुक उम्मीदवारों, उद्यमियों, व्यवसायियों, व्यापारियों और कारोबारियों को बेहतर से बेहतर जानकारी प्रदान करना है, जो पैकेजिंग (पैकिंग) सेवा बिजनेस अथवा Packing Making Business ideas पर काम करने के इच्छुक हैं और इस बिजनेस में अपना भविष्य में देख रहे हैं.

नोट- किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले बाजार/मार्केट रिसर्च एवं खपत का आंकलन अनिवार्य रूप से अवश्य करें। ऐसा करने से आपको बिजनेस में आने वाले जोखिम और दिक्कतों का सामना करने में आसानी हो जाएगी और बाजार में डिमांड के अनुरूप आप अपने products का निर्माण भी अच्छे से कर पाएंगे।

आशा है आपको इस लेख “कैसे घर से शुरू करें पैकेजिंग बिजनेस” से पैकेजिंग/पैकिंग सेवा बिजनेस, व्यापार और कारोबार के बारे में पूरी जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही यदि कुछ छूट गया हो या कुछ पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में जरूर लिखें। तब तक के लिए-

“शुभकामनाएं आपके कामयाब और सफल व्यापारिक भविष्य के लिए।”

धन्यवाद!

जय हिंद! जय भारत!

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular