उत्पाद निर्माणकैसे शुरू करें डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय | How to Start...

कैसे शुरू करें डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय | How to Start Detergent Powder Making Business in hindi

घर से कैसे शुरू करें डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय (Detergent Powder Making Business), detergent powder making process, how to make high quality detergent powder, डिटर्जेंट पाउडर बनाने की रेसिपी, कच्चा माल, डिटर्जेंट व्यवसाय की लागत व मुनाफा

आज के बदलते परिवेश में जैसे-जैसे लोग स्वच्छता के प्रति जागरूक हो रहे हैं वैसे-वैसे स्वच्छता उत्पादों की मांग बाजार/मार्किट में बढ़ती जा रही है.  डिटर्जेंट पाउडर! मौलिक तौर पर जिसे प्रत्येक घर में  साफ़ सफाई के साथ कपड़ों की स्वच्छता आदि करने के लिए प्राथमिक तौर पर उपयोग किया जाता है, हर घर का एक प्राथमिक उत्पाद बन चुका है.

लेकिन क्या आपको पता है कि डिटर्जेंट पाउडर को घर पर भी आसानी से और कम कीमत पर बनाया जा सकता है? अगर नहीं तो आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके लिए डिटर्जेंट पाउडर से जुडी समस्त जानकारियों को लेकर आए हैं. आप डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय सीखकर अपना व्यवसाय भी शुरू कर सकते/सकती है.

डिटर्जेंट-पाउडर-बनाने-का-व्यवसाय-Detergent-powder-making-business
डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय (Detergent Powder Making Business)

देखा जाए तो आज जिस तरह बीमारियों और महामरियों का खतरा बढ़ रहा है, स्वच्छता उत्पाद जैसे- डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय स्थापित अथवा शुरू करना एक फायदे का विकल्प साबित हो सकता है. आप भी अपने ब्रांड के डिटर्जेंट पाउडर को आसानी से बनाकर बहुत ही कम लागत में तैयार कर सकते/सकती हैं.

साथ ही अपने उत्पाद को थोक व खुदरा बाजार में बेच कर अच्छा मुनाफा या लाभ कमा सकते/सकती है. तो चलिए शुरू करते हैं आज की चर्चा- डिटर्जेंट पाउडर बनाने के व्यवसाय अथवा कारोबार को शुरू करने के लिए किन-किन चीजों/ रॉ मटेरियल की जरूरत होती है और कैसे डिटर्जेंट पाउडर आसानी से घर पर या फिर बड़े स्तर पर बनाया जाता है, इसकी पूरी जानकारी इसी पोस्ट में दी गई है-

घर पर डिटर्जेंट पाउडर बनाने के लिए रॉ मटेरियल-

यदि आप अपने घर से डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय (detergent powder making business) शुरू करना चाहते/चाहती हैं तो आपको नीचे दिये गए इन रॉ मटेरियल या कच्चे माल की जरूरत होगी, हमारे द्वारा यह जो पद्धति (recipe) बताई जा रही है वह 05 किलोग्राम डिटर्जेंट पाउडर बनाने की पद्धति है जो पूर्णत: हाथों से निर्मित किया जाता है। इसके रॉ मटेरियल या कच्चे माल इस प्रकार है-

  1. Washing Soda/Soda Ash- 2.5 Kg. (थोक मूल्य- 20 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  2. Acid Slurry– 500 Grams (थोक मूल्य- 55 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  3. Sodium Lauryl Sulphate (SLS Liquid)- 200 ml (थोक मूल्य- 55 रुपए प्रति लीटर से शुरू)
  4. Tri Sodium Phosphate (TSP)- 500 Grams (थोक मूल्य- 32 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  5. Sodium Tri Poly Phosphate (STPP)- 500 Grams (थोक मूल्य- 52 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  6. Carboxy Methyl Cellulose (CMC)- 100 Grams (थोक मूल्य- 85 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  7. Tinopal- 100 Grams (थोक मूल्य- 250 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  8. Salt of G Acid (G-Salt)- 1 Kg. (थोक मूल्य- 20 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  9. Fregnence or Perfumes- Approx. 50-60 ml (थोक मूल्य- 120 रुपए प्रति लीटर से शुरू)
  10. Natural Color- As you required (थोक मूल्य- 8 रुपए प्रति डिब्बी)
  11. 07 किलोग्राम क्षमता के 2 Steel/Plastic बर्तन (टब) (थोक मूल्य- steel= 250 रुपए से शुरू, Plastic= 40 रुपए से शुरू)
  12. लकड़ी या Steel का 2 बड़े चम्मच (थोक मूल्य- 27 रुपए प्रति पीस से शुरू)

सामग्री की यह कीमत समय-समय पर बाजार उतार-चढ़ाव के कारण घट-बढ़ सकती है। यदि आपके लोकल मार्केट में यह रॉ मटेरियल नहीं मिल पा रहा है तो इसे आप ऑनलाइन भी आर्डर दे सकते/सकती हैं। इसके लिए आप इन वेबसाइट्स की मदद ले सकते/सकती है-

  1. www.dir.indiamart.com 
  2. www.amazon.com या फिर
  3. आप जिसे जानते हैं वहाँ से ऑर्डर दे सकते/सकती हैं।

आवश्यक सुरक्षा उपकरण-

यदि आप डिटर्जेंट पाउडर बनाने के व्यवसाय को छोटे स्तर पर घर से ही शुरू करना चाहते/चाहती हैं तो आपको हाथों से डिटर्जेंट पाउडर बनाने के लिए त्वचा की सुरक्षा के लिए सुरक्षा उपकरण लेना अनिवार्य है। ये सुरक्षा उपकरण हैं-

  1. Eye Protection Spectacles (पारदर्शी चश्मे)
  2. Thick Hand Gloves (रबर के मोटे दस्ताने) और
  3. Face Mask (चेहरे को सुरक्षा के लिए मास्क)

छोटे स्तर पर डिटर्जेंट पाउडर बनाने की विधि (Process of Detergent Powder Making)-

छोटे स्तर पर हाथों से निर्मित किए जाने वाले डिटर्जेंट पाउडर बनाने की विधि को … चरणों में पूरा किया जाता है। ऊपर बताए गए रॉ मटेरियल से जो डिटर्जेंट पाउडर बनता है वह सबसे उत्तम गुणवत्ता (High Quality) का होता है, तो चलिये शुरू करते हैं-

पहला चरण-

पहले चरण में आपको अपनी सुरक्षा के लिए सुरक्षा उपकरण जैसे- रबर दस्ताने, मास्क और चश्मे आदि पहनना अनिवार्यता है, ये सुरक्षा उपकरण ऊपर बताए जा चुके हैं।

दूसरा चरण-

  • दूसरे चरण में सबसे पहले एक 07 किलोग्राम क्षमता का स्टील या प्लास्टिक का बर्तन (टब) लेना है, इसके बाद इस बर्तन या पात्र में 2.5 किलोग्राम वॉशिंग सोडा या Soda Ash डाल देना है,
  • इसके बाद वॉशिंग सोडा या Soda Ash में 500 ग्राम एसिड स्लरी को बड़े चम्मच या हाथों से अच्छे से लगभग 05 मिनट मिलाना है,
  • इसके बाद इस मिश्रण में 200 मिलीलीटर सोडियम लॉरेल सल्फेट (SLS) को डालकर अच्छे से मिलाना है,
  • SLS के बाद इस मिश्रण में 500 ग्राम Tri Sodium Phosphate (TSP) को डालकर चम्मच या दोनों हाथों से अच्छे से मिलाना है, मिश्रण में कोई भी रोड़ी आदि न बनने दें।

चेतावनीTri Sodium Phosphate (TSP) को मिश्रण में डालने के बाद मिश्रण थोड़ा गर्म महसूस हो सकता है, इससे घबराने की जरूरत नहीं है।

  • TSP के बाद इस मिश्रण में 500 ग्राम Sodium Tri Poly Phosphate (STPP) को अच्छे से मिलाना है,
  • इसके बाद मिश्रण में 100 ग्राम Carboxy Methyl Cellulose (CMC) को मिलाना है,
  • इसके बाद इस मिश्रण में 100 ग्राम Tinopal को मिलाना है। Tinopal जो कि एक वाइटनर एजेंट है जो डिटर्जेंट पाउडर को चमक और सुंदरता प्रदान करता है।
  • Tinopal के बाद मिश्रण में 1 Kg. ग्राम Salt of G Acid जिसे G-Salt भी कहा जाता है को मिलाना है। G-Salt मिलाने के बाद हमारा डिटर्जेंट पाउडर प्रयोग के लिए तैयार हो चुका है, लेकिन अभी इस डिटर्जेंट पाउडर को व्यापारिक तौर पर बिक्री के लिए इसमें सुगंध और रंग मिलाना बाकी है।
  • डिटर्जेंट पाउडर का मिश्रण तैयार हो जाने के बाद इस मिश्रण में से लगभग 200 ग्राम मिश्रण को अलग पात्र में निकाल कर उसमें इच्छानुसार प्राकृतिक रंग से रंगीन बना लें, छोटा मिश्रण रंगीन हो जाने के बाद इसे बाकी के पूरे मिश्रण में अच्छे से मिला दें, आप चाहे तो पूरे मिश्रण को रंगीन बना सकते हैं।
  • सबसे आखिर में आता है मिश्रण में सुगंध या खुशबू मिलाना, 05 किलोग्राम के मिश्रण में 50 से 60 मिलीलीटर सुगंध मिलाना है। perfumes का चुनाव आप अपनी इच्छानुसार कर सकते हैं। (सुझाव- निरोल या निरोली की सुगंध अच्छी भूमिका निभा सकती है।)
  • रंग और सुगंध मिलाने के बाद डिटर्जेंट पाउडर के मिश्रण को अच्छे से मिलाना है, इस मिश्रण में कोई भी रोड़ी आदि नहीं रहनी चाहिए। अब आप डिटर्जेंट पाउडर तैयार हो चुका है। आप इसे एक सुंदर पैकिंग में पैक कर बाज़ार में बेचने के लिए भेज सकते/सकती हैं। यह डिटर्जेंट पाउडर सबसे उच्च गुणवत्ता का है जो बाजार में उपलब्ध किसी भी नामी डिटर्जेंट पाउडर उत्पाद के समकक्ष या उससे ऊपर हो सकता है।

तीसरा चरण-

तीसरे चरण में डिटर्जेंट पाउडर को बाज़ार मांग के आधार पर (100 ग्राम से 1 किलोग्राम के size में) एक सुंदर पैकिंग में पैक कर थोक/खुदरा बिक्री के लिए भेज सकते/सकती हैं। यह डिटर्जेंट पाउडर सबसे उच्च गुणवत्ता का है जो बाजार में उपलब्ध किसी भी नामी डिटर्जेंट पाउडर उत्पाद के समकक्ष या उससे ऊपर हो सकता है।

छोटे स्तर पर डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय या सर्फ का कारोबार शुरू करने में पैकिंग मशीन (हीट सीलिंग मशीन) के अलावा अन्य कोई मशीनरी की अवश्यकता नहीं पड़ती है। यदि आप अपने घर से डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय में उतरना चाहते हैं तो यह तरीका आपके लिए एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

नोट- उपरोक्त पद्धति (method) के अलावा डिटर्जेंट पाउडर बनाने की अन्य विधियां भी हो सकती हैं।

बड़े स्तर पर डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय शुरू करने के लिए जरूरी मशीनरी-

यदि आप डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय को बड़े स्तर पर शुरू करना चाहते हैं और आपके पास डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय में निवेश के लिए पर्याप्त पैसा भी है तो आप डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय की Manufacturing Unit setup लगाकर अपना कारोबार शुरू कर सकते हैं। डिटर्जेंट पाउडर की Manufacturing यूनिट लगाने के लिए कौन-कौन सी मशीनों की आवश्यकता होती है-

  1. मिक्सर मशीन (Mixer Machine)– (कीमत- 40,000 रुपए से शुरू) इस मशीन में डिटर्जेंट पाउडर का निर्माण करने वाले रॉ मटेरियल को एक-एक कर आपस में मिक्स या मिलाया जाता है।
  • केज़ मिल मशीन (Cage Mill Machine)– (कीमत- 38,000 रुपए से शुरू) इस मशीन के द्वारा मिक्सर मशीन से निकले मिश्रण में मौजूद रोड़ी/गुठलियों को बारीक कर पूरे मिश्रण को एक समान बनाया जाता है।
  • पैक/पाउच  सीलिंग मशीन (Sealing Machine)– (कीमत- 32,000 रुपए से शुरू) यह मशीन डिटर्जेंट पाउडर को प्लास्टिक पाउच में सील करने का काम करती है। (यह मशीन ऑटोमेटिक और सेमी-ऑटोमेटिक दोनों वेरियंट में आती है।)

नोट- इन मशीनों का चुनाव आप अपने व्यवसाय उत्पादन और कार्य क्षमता के आधार पर करें।

बड़े स्तर पर डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय शुरू करने के लिए जरूरी रॉ मटेरियल-

  1. Washing Soda/Soda Ash- 2.5 Kg. (थोक मूल्य- 20 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  2. Acid Slurry- 500 Grams (थोक मूल्य- 60 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  3. Sodium Lauryl Sulphate (SLS Liquid)- 200 ml (थोक मूल्य- 55 रुपए प्रति लीटर से शुरू)
  4. Tri Sodium Phosphate (TSP)- 500 Grams (थोक मूल्य- 32 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  5. Sodium Tri Poly Phosphate (STPP)- 500 Grams (थोक मूल्य- 52 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  6. Carboxy Methyl Cellulose (CMC)- 100 Grams (थोक मूल्य- 85 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  7. Tinopal- 100 Grams (थोक मूल्य- 250 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  8. Salt of G Acid (G-Salt)- 1 Kg. (थोक मूल्य- 20 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू)
  9. Fregnence or Perfumes- Approx. 50-60 ml (थोक मूल्य- 120 रुपए प्रति लीटर से शुरू)
  10. Natural Color- As you required (थोक मूल्य- 8 रुपए प्रति डिब्बी), इसके साथ ही अगर आप चाहे तो
  11. Dolomite Powder- 1.2 Kg. (थोक मूल्य- 3 रुपए प्रति किलोग्राम से शुरू) को ले सकते हैं, डोलोमाइट का इस्तेमाल करने से डिटर्जेंट पाउडर की गुणवत्ता में फर्क आ सकता है। इसका चुनाव सोच-समझकर करें.

उपरोक्त सामग्री की यह कीमत समय-समय पर बाजार उतार-चढ़ाव के कारण घट-बढ़ सकती है। यदि आपके लोकल मार्केट में यह रॉ मटेरियल नहीं मिल पा रहा है तो इसे आप ऑनलाइन भी आर्डर दे सकते/सकती हैं। इसके लिए आप इन वेबसाइट्स की मदद ले सकते/सकती है-

  1. www.dir.indiamart.com 
  2. www.amazon.com या फिर
  3. आप जिसे जानते हैं वहाँ से ऑर्डर दे सकते/सकती हैं।

सुरक्षा उपकरण-

मशीनों द्वारा डिटर्जेंट पाउडर बनाते समय कच्चे माल की धूल उड़ती है, जिससे बचने के लिए आपको सुरक्षा उपकरण पहनना अनिवार्य है, सुरक्षा उपकरणों का उल्लेख ऊपर किया जा चुका है।

मशीनरी की सहायता से डिटर्जेंट पाउडर बनाना-

रॉ मटेरियल अंतर्गत जो सामग्री मात्रा बताई गई है उसे गुणन के आधार पर बढ़ाकर क्रमवार मिक्सर मशीन में एक-एक कर डालते जाएं, मिक्सर मशीन में सारे रॉ मटेरियल को लगभग 15 मिनट तक मिलाए, 15 मिनट तक मिलाने के बाद इस मिश्रण को दूसरी मशीन केज़ मिल मशीन में डाला जाता है।

जहां मिश्रण में मौजूद रोड़ी/गुठलियों को बारीक कर पूरे मिश्रण को एक समान बनाया जाता है। केज़ मिल मशीन से process होकर बाहर निकाला उत्पाद ही हमारा डिटर्जेंट पाउडर है, जिसे पैक कर थोक व खुदरा बिकी हेतु बाजार में भेजा जा सकता है।

बड़े स्तर पर डिटर्जेंट पाउडर व्यवसाय शुरू करने के लिए वांछित स्थान-

डिटर्जेंट पाउडर की Manufacturing शुरू करने के लिए कम से कम 2,000 वर्ग फुट के स्थान या जगह की जरूरत होती है, जहां सभी आवश्यक मशीनरी को इन्स्टाल करना, रॉ मटेरियल और तैयार उत्पाद/माल को सुरक्षित रखने का स्थान सुनिश्चित किया गया हो। साथ आपके कार्य स्थल में बिजली आदि की उचित व्यवस्था का होना अनिवार्य है।

आपको डिटर्जेंट पाउडर की Manufacturing शुरू करने के लिए ऐसे स्थान का चुनाव करना चाहिए जो बारिस और नमी आदि घटकों से सुरक्षित हो। इससे डिटर्जेंट पाउडर बनाने के कच्चे माल या रॉ मटेरियल के खराब होने की संभावना कम या समाप्त हो जाएगी।

डिटर्जेंट पाउडर की पैकिंग तैयार करना-

डिटर्जेंट पाउडर के तैयार हो जाने के बाद बारी आती है पैकिंग की. एक शानदार और सुन्दर पैकिंग किसी भी ग्राहक को अपनी ओर आकर्षित कर सकती है और उस पर यदि आपका उत्पाद उच्च गुणवत्ता का है तो जल्द ही मार्केट/बाज़ार में छा भी सकता है. किसी भी Product की पैकिंग उसके ब्रांड वैल्यू को बनाने और बढ़ाने का काम करती है.

पैकिंग की डिजाइन के लिए किसी जानकार ग्राफिक्स डिजाइनर की सहायता जरूर लें। साथ ही उत्पाद बनाने में उपयोग किए गए घटकों का उल्लेख उत्पाद की पैकेजिंग पर अनिवार्य रूप से करें।

डिटर्जेंट पाउडर की पैकिंग बनवाने के लिए आप सबसे पहले अपने क्षेत्रीय प्रिंटर्स/मुद्रक से संपर्क करें, यदि आपके क्षेत्र में प्रिंटिंग आदि का काम नहीं होता है तो पैकिंग बनवाने के लिए आप इंटरनेट पर मौजूद वेबसाइटो की मदद ले सकते/सकती है.

सुझाव-

डिटर्जेंट पाउडर व्यापार की शुरुवात आप छोटे/कम ग्राम जैसे- 100 ग्राम से 500 ग्राम से ही शुरू करें. ऐसा करने से आपकी मार्केट समझ बढ़ेगी साथ ही आपको यह भी पता चलेगा कि आपके Product की बाजार में खपत किस स्तर पर हो रही है, खपत का आंकलन कर आप बाजार में बड़े ग्राम के प्रोडक्ट या उत्पाद उतार सकते/सकती हैं.

व्यवसाय का पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन कहां से कराना है-

डिटर्जेंट पाउडर व्यापार की शुरू करने से पहले आपको अपनी कम्पनी/एजेन्सी या फर्म का पंजीकरण कराना अनिवार्य है, क्योंकि पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन लेना ही किसी भी व्यापार को शुरू करने के लिए पहला मानक है. पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन के बाद ही आप अपने उत्पाद का प्रचार मार्केट/बाजार में कर सकते हैं.

पंजीकरण कराने के लिए आपको सबसे पहले अपनी कम्पनी/एजेन्सी या फर्म के नाम से एक बैंक खाता खोलना होता है, इसके बाद भारत सरकार द्वारा विकसित किये गए उद्यमी पोर्टल MSME (उद्यम) पर अपने व्यापार की लागत के अनुरूप सूक्ष्म, मध्यम और लघु उद्योग अंतर्गत श्रेणियों में पंजीकरण करा सकते हैं. साथ ही आपको टैक्स आदि के लिए GST No. भी लेना अनिवार्य है, उत्पाद की गुणवत्ता के लिए ISO Certification भी करा सकते हैं.

इन पंजीकरणों के बाद भी ….. आपको

  1. ट्रेड लाइसेंस,
  2. ट्रेडमार्क लाइसेंस,
  3. फैक्ट्री लाइसेंस और
  4. जिले या राज्य के प्रदूषण विभाग से NOC (No Objection Certificate) लेना होता है.

अपने Product की मार्केटिंग/प्रचार-प्रसार करना-

Product तैयार हो जाने के बाद सबसे अहम काम होता है अपने उत्पाद के प्रति समाज के लोगों जागरूक करना मतलब अपने उत्पाद की मार्केटिंग करना। तो इसके लिए सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने लोकल बाजार के किराना दुकानों और स्टोर्स के कारोबारियों से संपर्क करें, साथ ही लोकल बाजार के कई स्थानों पर पोस्टर आदि चिपकवा सकते हैं,

चूँकि आपके आस-पास की किराना दुकानें आपको अच्छे से जानते होंगे, जिससे आपके माल के खपत होने कि संभावना बढ़ सकती है। इसके साथ ही थोक बाजार के व्यापारियों से भी थोक बिक्री हेतु संपर्क कर सकते हैं।

यदि आप छोटे स्तर पर व्यापार शुरू कर रहे हैं तो प्रचार के लिए आप अखबार में पैम्पलेट भी डलवाकर प्रचार कर सकते/सकती हैं। इसके साथ ही जैसे-जैसे आपका कारोबार बढ़ता जाए आप और बड़े स्तर के विज्ञापन (अखबार पृष्ठ, पत्रिका पृष्ठ और digital marketing) का भी सहारा ले सकते हैं।

आप अपने डिटर्जेंट पाउडर का ऑनलाइन कारोबार भी कर सकते/सकती हैं, जहां आपको एक वेबसाइट डिजाइन करनी या करवानी होगी, एक वेबसाइट बनाने या बनवाने का सालाना खर्च लगभग 10,000 से 25,000 तक आ सकता है।

मूल्य निर्धारण-

किसी भी नए उत्पाद को बाजार में बिक्री करने के लिए सबसे अहम भूमिका निभाता है उसका मूल्य और यह बात सार्वभौम सत्य है. आज जिस तरह से मंहगाई बढ रही है, उसे ध्यान में रखते हुए आपके उत्पाद का मूल्य इतना होना चाहिए, जिसे समाज का हर वर्ग आसानी से खरीद सके.

इसलिए बाजार और मंहगाई को देखते हुए आप अपने उत्पाद का मूल्य बाजार में मौजूद अन्य उत्पादों की अपेक्षा कुछ कम ही रखें लेकिन उत्पाद की गुणवत्ता से कोई समझौता न करें, बेहतरीन गुणवत्ता के कारण आपका उत्पाद धीरे-धीरे मार्केट/बाजार में प्रसिद्ध होने लगेगा और जिससे आप अपने कारोबार को छोटे से बड़े स्तर पर विस्तारित कर सकते हैं। कम मूल्य पर उत्पाद बेचने की शुरुवात आपको अपने लोकल मार्केट से ही करनी चाहिए।

व्यवसाय के लिए लोन-

अपनी फर्म/कंपनी या एजेंसी के रजिस्ट्रेशन/पंजीकरण के तहत आप किसी भी सरकारी बैंक से लोन के लिए apply कर सकते हैं. जो आपको आपके व्यवसाय स्तर के आंकलन के मुताबिक लोन दे सकता है.

लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार द्वारा संचालित मेक इन इंडिया के तहत प्रधानमंत्री रोजगार योजना, कौशल विकास योजना आदि के माध्यम आपको आसानी से ऋण/लोन मिल सकता है. इसके लिए आपको अपनी कंपनी/एजेन्सी या फर्म के पंजीकरण संख्या से सरकारी योजना के तहत आवेदन करना होगा.

सरकारी योजनाओंके तहत लघु उद्योग हेतु ऋण/लोन लेने के लिए आप अपने स्थानीय/लोकल सरकारी बैंक की शाखा से जानकारी प्राप्त कर सकते/सकती हैं.

व्यापार के बिल व ब्यौरा तैयार करना-

अधिकतर नए व्यापारी नया व्यापार शुरू तो कर देते हैं लेकिन लागत के रूप में खर्चे गए पैसों का हिसाब सही ढंग से नहीं रखते, जो कि एक उभरते हुए व्यापारी के लिए अच्छी बात नहीं है. आज के इस डिजिटल ज़माने में अपने खर्चों को सूचीबद्ध करना बहुत ही आसान है. इसके लिए आज ढेरों software और application मौजूद हैं. 

यदि आप एक smart phone अपने पास रखते हैं तो Google play store पर billing और accounting से जुडी ढेरो application मौजूद हैं. आप उनमें से किसी एक का उपयोग कर सकते हैं. इन application में आप अपने तैयार समान के बिल बनाने से लेकर अपनी लागत का ब्यौरा आदि भी सुरक्षित रख सकते है, और इससे आपको पता रहेगा कि आपने अपने बिजनेस में अब तक कुल कितनी लागत लगाई है और कितना मुनाफा कमाया.

व्यवसाय में मुनाफा या लाभ-

अब बात करते है मुनाफे या लाभ की, जो हर एक व्यवसायी, व्यापारी और कारोबारी को सबसे उच्च स्तर का प्राप्त करने की अभिलाषा होती है, मौलिक तौर पर मुनाफा शब्द एक ऐसा शब्द है जो हर किसी को एक नई प्रेरणा देता है. 

कोरोना काल ने साबुन और स्वच्छता से जुड़े व्यवसायियों के लिए कई लाभ सम्भावनाओं को पैदा किया है। अमूमन अच्छी गुणवत्ता के डिटर्जेंट पाउडर पर पैकिंग सहित लागत प्रति किलो लगभग 18 से 32 रुपए तक आती है जिसे खुदरा मार्केट में 59 से 100 रुपए प्रति किलो तक बेचा जाता है।

जहां आपका मुनाफा या लाभ 41 से 68 रूपए प्रति किलो के हिसाब से होता है. जैसे-जैसे आपके उत्पाद की खपत बढती है आपका मुनाफा भी गुणन के आधार पर बढ़ता जाता है, आप डिटर्जेंट पाउडर कारोबार से 30,000 से लेकर 01 लाख रुपए या इससे भी ऊपर हर महीने कमा सकते हैं. 

FAQ.

डिटर्जेंट पाउडर कैसे बनाया जाता है या डिटर्जेंट पाउडर कच्चे माल की सूची क्या है?

डिटर्जेंट (जिसे अपमार्जक भी कहा जाता है) का निर्माण पूरी तरह से रासायनिक प्रक्रिया के तहत आता है. उच्च गुणवत्ता का डिटर्जेंट पावडर बनाने के लिए (Detergent Powder Making) इन मटेरियल्स कि जरूरत होती है-

1. Washing Soda/Soda Ash
2. Acid Slurry
3. Sodium Lauryl Sulphate (SLS Liquid)
4. Tri Sodium Phosphate (TSP)
5. Sodium Tri Poly Phosphate (STPP)
6. Carboxy Methyl Cellulose (CMC)
7. Tinopal
8. Salt of G Acid (G-Salt)
9. Fregnence or Perfumes
10. Natural Color

इन मटेरियल्स को एक निश्चित मात्रा में लेकर आपस में मिलाकर उच्च गुणवत्ता के वाशिंग डिटर्जेंट पाउडर बनाया जाता है. सामग्री की मात्रा जानने के लिए ऊपर का लेख पढ़ें.

अंत में-

आज जैसे-जैसे हमारा समाज स्वच्छता के प्रति जागरूक हो रहा वैसे-वैसे स्वच्छता संबंधी उत्पादों जैसे डिटर्जेंट पाउडर आदि की उपयोगिता और डिटर्जेंट पाउडर को बनाने के व्यवसाय या कारोबार में नई संभावनाएं पैदा होती जा रही है। जिसके चलते डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय स्थापित करना एक फायदेमंद विकल्प साबित हो सकता है।

नोट- किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले बाजार/मार्केट रिसर्च एवं खपत का आंकलन अनिवार्य रूप से अवश्य करें. ऐसा करने से आपको व्यवसाय में आने वाले जोखिम और दिक्कतों का सामना करने में आसानी हो जाएगी और बाजार में डिमांड के अनुरूप आप अपने products का निर्माण भी अच्छे से कर पाएंगे.

आशा है आपको इस लेख ‘कैसे शुरू करें डिटर्जेंट पाउडर बनाने का व्यवसाय’ से डिटर्जेंट व्यवसाय, व्यापार और कारोबार के बारे में पूरी जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही… यदि कुछ छूट गया हो या कुछ पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में जरूर लिखें. तब तक के लिए-

“शुभकामनाएं आपके कामयाब और सफल व्यापारिक भविष्य के लिए.” 

धन्यवाद!

जय हिंद! जय भारत!

RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

  1. बहुत ही सरल तरीके से DetergentPowder व्यवसाय को इस लेख मे बताया गया है. A lot of Thanks
    पर क्या सर्फ एक्सेल या एरियल की तरह Detergent Powder तैयार हो पायेगा,, अगर नहीं तो उस तरह के Detergent बनाने के लिए और किस- प्रकर की आवश्यक वस्तु की जरूरत पड़ेगी. कृपया बताना चाहेंगे.

    आदर के साथ

    • आपने लेख को पढ़ा इसके लिए आपका धन्यवाद! बाजार में मौजूद किसी भी नामी ब्रांड की तरह डिटर्जेंट बनाने के लिए अन्य किसी भी मटेरियल्स की जरूरत नहीं होती… लेख में बताये गए कच्चे माल की निर्धारित मात्रा से आप किसी भी नामी ब्रांड से उम्दा गुणवत्ता का डिटर्जेंट आसानी से बना सकते हैं. आजमाने के लिए आप छोटे स्तर पर एक्सपेरिमेंट जरूर करें. साथ ही अगर कोई दिक्कत आती है तो जरूर संपर्क करें.

      हमारा उद्देश्य हमारे सभी पाठको को सटीक जानकारी मुहैया कराना है… जिससे वे उच्च गुणवत्ता के उत्पाद का निर्माण कर अपने बिजनेस को सफलता के शिखर पर ले जाएँ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular