उत्पाद निर्माणकम निवेश से शुरू करें पशु आहार बनाने का व्यवसाय | Cattle...

कम निवेश से शुरू करें पशु आहार बनाने का व्यवसाय | Cattle Feed Making Business at Low Cost in hindi

पशु आहार बनाने का व्यवसाय: आज दुनिया में दूध को प्राथमिक पोषण के तौर पर जाना जाता है क्योंकि दूध में लगभग वे सभी घटक मौजूद होते हैं जो हमारे पोषण के लिए जरूरी होते हैं. बढती आबादी का प्राथमिक पोषण करने के दृष्टिगत दुधारू पशुओं जैसे- गाय, भैंस, बकरी व मवेशियों का पालन किया जाता है.

इन दुधारू पशुओं से उच्च गुणवत्ता का दूध प्राप्त करने के लिए इन्हें एक बेहतर और संतुलित पशु आहार (animal feed) देना प्राथमिक प्रक्रियाओं में से एक है. परन्तु अधिकतर पशु पालकों को पता ही नहीं होता है कि वे जिस पशु आहार को वे अपने मवेशियों को दे रहे हैं क्या वह संतुलित है भी या नहीं?

ऐसे में यह बेहद जरूरी हो जाता है कि पशु पालक द्वारा अपने दुधारू (दूध देने वाले) पशुओं को पर्याप्त और संतुलित मात्रा में पशु आहार दिया जाये, जिससे वे उच्च गुणवता का दूध उत्पन्न कर सके हैं. यहीं पर पशु आहार की उपयोगिता सिद्द हो जाती है.

व्यवसायिक दृष्टी से आंकलन करने पर पशु आहार बनाने का व्यवसाय (Animal/Cattle Feed Making Business) एक सदाबहार चलने वाला मुनाफे का कारोबार है. जिसे अपनाकर बहुत ही अच्छा मुनाफा बेहद ही आसानी से कमाया जा सकता है.

और देखा जाये तो आज पशु आहार बनाने जैसे व्यवसायों की बड़ी मांग भी है तथा मौजूदा समय की जरूरत भी. तो आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपके साथ पशु चारे मतलब पशु आहार बनाने का व्यवसाय के बारे में विस्तृत जानकारी साझा करने जा रहे है.

यदि आप अथवा इच्छुक उद्यमी पशु चारा अथवा पशु आहार बनाने का व्यवसाय (Animal/Cattle Feed Manufacturing Business) शुरू करना चाहता या भविष्य में करने की सोच रहे है तो यह पोस्ट आपके लिए मददगार साबित हो सकती है.

आइये शुरू करते हैं और जानते हैं कि पशु आहार बनाने का व्यवसाय (animal feed making business) शुरू करने के लिए किन-किन घटकों व चीजों की आवश्यकता होती है-

अनुक्रमिका

पशु आहार व्यवसाय में लिया जाने वाला रॉ मटेरियल (Required Raw Materials for Starting Cattle Feed Making Business)-

सबसे पहले जानते हैं कि पशु चारा या पशु आहार बनाने का व्यवसाय शुरू करने के लिए किन-किन रॉ मटेरियल्स की आवश्यकता होती है और इन मटेरियल्स को कहाँ-कहाँ आसानी से प्राप्त किया जा सकता है?

पशु आहार बनाने का व्यवसाय शुरू करने के लिए जिस रॉ मटेरियल/कच्चे माल की आवश्यकता होती है, उसे आप अपने स्थानीय बाजार से आसानी से खरीद सकते हैं. ये कच्चे माल हैं-

 रॉ मटेरियलमात्रा 
1मक्का- 20kg, गेंहू- 10kg30kg
2ज्वार-2kg, जौ-3kg5kg
3सोयाबीन दाल की भूसी3kg
4उड़द दाल की भूसी3kg
5मूंग दाल की भूसी3kg
6मोठ दाल की भूसी2kg
7हल्दी पाउडर5kg
8खलियां (सरसों, मूंगफली, तिल, बिनौला व आलसी)20kg
9चोकर20kg
10आयोडीन युक्त नमक (सेंधा नमक को वरीयता)1kg
11चना की भूसी5kg
12गुड़2.3kg
13कैल्सियम0.5kg
14विटामिन्स ए व डी-3 (लिक्विड)0.2kg
 Total100kg

नोट- राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (NDDB) के द्वारा 06 प्रकार के प्रमुख लाइवस्टॉक फीडिंग सिस्टम अपनाए जाते हैं

पशु आहार बनाने के लिए कच्चे माल की आपूर्ति कहां से की जा सकती है?

पशु आहार बनाने में लिया जाने वाला कच्चा माल किसी भी क्षेत्र के क्षेत्रीय थोक विक्रेता पंसारी व आढ़त की दुकानों पर बहुत ही आसानी से मिल जाता है. इसके अलावा इस कच्चे माल को online भी आसानी से ख़रीदा जा सकता है.

पशु आहार व्यवसाय का पंजीकरण (Cattle feed making business registration)-

व्यवसायिक स्तर पर पशु चारा अथवा पशु आहार बनाने का व्यवसाय शुरू करने इच्छुक उद्यमी/किसान को अपने व्यवसाय का पंजीकरण कराना अनिवार्य है. पंजीकरण के बाद ही मार्केट में उत्पाद की बिक्री करना सुगम हो जाता है.

इसके अलावा पशु आहार का कारोबार पशुओं के जीवन से जुड़ा हुआ है. इसलिए यह जरूरी है कि व्यवसाय को पंजीकृत करके ही व्यवसाय की शुरुआत करना श्रेस्कर होता है. पशु आहार निर्माण व्यवसाय का पंजीकरण भारत सरकार द्वारा निर्धारित पंजीकरण से कराना होता है. ये पंजीकरण हैं-

  1. Animal Husbandry Department से लाइसेंस
  2. Cattle Feed License (FSSAI)
  3. MSME उद्यम
  4. GST रजिस्ट्रेशन
  5. Shop Act or Trade License
  6. Pollution Control Board से NOC
  7. ISI मानक के अनुरूप BIS सर्टिफिकेशन

पशु आहार व्यवसाय में आवश्यक मशीनरी (Required Machinery for Cattle feed making)-

व्यवसायिक तौर पर पशु आहार को बड़े स्तर पर ही बनाया जाता है क्योंकि पशु चारा एक ऐसा घटक है, जिसकी दैनिक स्तर पर लगातार बड़ी मात्रा में खपत होती है.

पशु आहार बनाने में लिया जाने वाला कच्चा माल मौजूदा मार्केट में खड़ा और दरदरा दोनों तरह का आता है. परन्तु यदि इच्छुक उद्यमी अपने उत्पाद से बेहतर मुनाफा कमाना चाहता है तो बाजार से खड़े रॉ मटेरियल को खरीद कर प्रोसेस करे.

ऊपर बताये गए रॉ मटेरियल्स को प्रोसेस करने के लिए नीचे सम्बंधित मशीनों का उल्लेख किया गया है. चूंकि मौजूदा मार्केट में हमेशा उतार-चढ़ाव होता रहता है. इसलिए मशीनों के दाम में परिवर्तन संभावित गया है. पशु आहार बनाने के लिए मशीने है-

  1. Feed grinder – पशु चारा काटने की मशीन (कीमत- 35,000 रूपये प्रति इकाई से शुरू क्षमता 100 kg/h)
  2. Mixture machine (कीमत- 75,000 रूपये प्रति इकाई से शुरू)
  3. Cattle Feed & Pellet Making Machine – कैटल फीड पैलेट बनाने की मशीन (कीमत- 1,00,000 रूपये प्रति इकाई से शुरू क्षमता 900 kg/h)
  4. Weighing Machine – पशु चारा तौलने के लिए (कीमत- 15,000 रूपये प्रति इकाई से शुरू)
  5. पशु आहार बैग/बोरी सिलने वाली मशीन (कीमत- 10,000 रूपये प्रति इकाई से शुरू)

कहाँ से खरीदें-

उपरोक्त मशीनरी को आप अपने लोकल मार्केट से ले सकते हैं यदि लोकल बाजार में यह मशीने नहीं मिल पा रही हैं तो इस आप ऑनलाइन भी नीचे दी गई वेबसाइटस से खरीद सकते हैं-

इसे भी पढ़ें- कैसे शुरू करें गोबर उत्पाद निर्माण व्यवसाय कम लागत में

  1. www.indiamart.com
  2. www.tradeindia.com
  3. आप जिसे जानते हैं वहाँ से ऑर्डर दे सकते हैं.

पशु आहार बनाने की विधि (Process of animal/cattle feed making)-

पशु आहार अथवा पशुओं को दिया जाने वाले चारे को बनाना एक सरल प्रक्रिया है… बशर्ते आपको/इच्छुक उद्यमी/किसान को कच्चे माल और उसकी मात्रा की जानकारी पूरी तरह से स्पष्ट हो….

  1. ऊपर बताई गई सामग्री को एकत्र कर सबसे पहले उसे पशुओं के खाने लायक feed grinder machine की मदद से एक-एक कर दरदरा (crushed) बनाया जाता है.
  2. इसके बाद दरदरे चारे (crushed feed) को mixing machine की मदद से सभी को आपस में मिक्स किया जाता है.
  3. इसके बाद ग्राहक की डिमांड के अनुसार सीधे अथवा cattle feed pellet या Animal feed pellet बनाकर तैयार किया जाता है.
  4. इसके बाद तैयार animal feed pellet की quality check करवानी होती है, यह बहुत ही जरूरी चरण है.
  5. Quality check में हरी झंडी मिलने के बाद इच्छुक उद्यमी/किसान अपने तैयार माल की पैकिंग कर बाजार में  बिक्री के लिए भेज सकता है.

सुझाव-

  • पशु चारे की गुणवत्ता की जांच अवश्य करा लें क्योंकि इस पर पशुओं का जीवन निर्भर करता है. Quality check के लिए इच्छुक उद्यमी अपने क्षेत्र की स्थानीय FCI (Food Corporation of India) शाखा से संपर्क करे.
  • cattle feed pellet या Animal feed pellet बनाने के लिए तैयार दरदरे चारे में हल्का पानी व बिनौले का तेल मिलाया जा सकता है. (यह पूरी तरह से वैकल्पिक है)

पशु आहार के प्रकार (Types of animal/cattle feeds)-

अमूमन आज भी अधिकतर किसानों और पशु पालकों को पता ही नहीं होता है कि किस तरह के पशु कैसा और कितना आहार देना सही होता है. मसलन दुधारू पशु से उच्च उत्पादन प्राप्त करने के लिए किस प्रकार से उनकी डाईट को संतुलित किया जाए. इसे संतुलित करने की दृष्टी से पशुओं को तीन वर्गों में बांटा गया है.

पशु-आहार-व्यवसाय-cattle-feed-business

जिससे किसान/उद्यमी आसानी से अपने मवेशियों/पशुओं के आहार को संतुलित कर सकते है और अपने पशुओं के स्वास्थ्य को मजबूत बना सकता है. ये वर्ग हैं-

जीवन निर्वाह के लिए आहारगर्भवस्था के लिए आहारउत्पादन के लिए आहार
इस श्रेणी में वे पशु आते हैं जिन्हें जीवन निर्वाह के लिए आहार चाहिए होता है. (मसलन- बैल, भैंसा, बकरा और गाय व भैंस जो दूध उत्पादन न कर रही हो आदि)गर्भावस्था स्थिति होने वाले पशुओं को विशेष आहार की आवश्यकता होती है क्योंकि यदि विशेष पशु आहार न दिया जाए तो उत्पादन पर फर्क पड़ता है.दूध उत्पादन की दृष्टी से दुधारू पशुओं को दुग्ध उत्पादन व जीवन निर्वाह दोनों स्वस्थ्य ढंग से करने के लिए पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्वों वाले भोजन अथवा पशु आहार की आवश्यकता होती है. इसलिए यहां पशु आहार का महत्व सबसे अधिक होता है.
कितना आहार देना चाहिए-
मूल चारे का 10% पशु आहार मिलाकर देना सही होता होता है.
कितना आहार देना चाहिए-
मूल चारे में मूल चारे का 15 से 20% पशु आहार मिलाकर देना सही होता होता है.
कितना आहार देना चाहिए-
मूल चारे में मूल चारे का 20 से 25% पशु आहार मिलाकर देना सही होता होता है.

पशु आहार व्यवसाय स्थापित करने के लिए आवश्यक स्थान (Required Area)-

कम उत्पादन के दृष्टिगत छोटे स्तर पर पशु आहार बनाने का व्यवसाय/बिजनेस शुरू करने के लिए आपको कम से कम 1500 sqft area की आवश्यकता होगी. वहीं बड़े स्तर पर cattle feed making business शुरू करने के लिए 3000 से 5000 sqft area की अवश्यक्ता होती है.

इसके अलावा यदि इच्छुक उद्यमी केवल डिस्ट्रीब्यूशन या डीलरशिप के तौर पर अपना व्यवसाय शुरू करना चाहता है तो कम से कम 800 से 1500 sqft area की जरूरत होगी.

चयनित स्थान पर मशीनों के स्थान पूर्व नियोजित करना जरूरी है. साथ ही आपके प्लांट स्थान पर बिजली, पानी व transportation संबंधी आवागमन (क्रय-विक्रय आदि) की उचित व्यवस्था होनी आवश्यक है.

पशु आहार व्यवसाय में मैनपावर की आवश्यकता (Required Manpower)-

छोटे स्तर पर पशु आहार निर्माण व्यवसाय शुरू करने के लिए कम से कम 04 से 06 मैनपावर/कर्मचारियों की आवश्यकता होती है. ये कर्मचारी कुशल लेबर, मार्केटर, सेल्स पर्सन व अकाउंटेंट आदि हो सकते हैं.

वही यदि आप अथवा इच्छुक उद्यमी पशु आहार बनाने का व्यवसाय animal feed अथवा cattle feed making business बड़े स्तर पर शुरू करना चाहता है तो बड़े स्तर पर शुरू करने के लिए 10 से 15 मैनपावर/कर्मचारियों की आवश्यकता होती है.

सुझाव (Suggestions)-

पशु चारे के कारोबार से बेहतर मुनाफा कमाने के लिए आवश्यक मैनपावर का चुनाव विशेष रणनीति बनाकर ही करें… ऐसा इसलिए क्योंकि शुरूआती दौर में मैनपावर पर अच्छा ख़ासा खर्च आता है.

पशु आहार उत्पाद की मार्केटिंग (Product Marketing)-

पशु चारा/पशु आहार के कारोबार से बेहतर मुनाफा कमाने के लिए इच्छुक उद्यमी को अपने उत्पाद की मार्केटिंग एक विशेष रणनीति बनाकर करनी जरूरी है.

मौजूदा बाजार का गहराई से आंकलन करने पर एक तथ्य बिल्कुल स्पष्ट प्रदर्शित होता है, जिस पर सभी अपनी सहमति भी देते हैं. यह तथ्य है “जो दिखता है, वही बिकता है” और यह पूरी तरह से सच भी है. इसी तथ्य को प्रमुखता देते हुए, इच्छुक उद्यमी को अपने उत्पाद की मार्केटिंग इस प्रकार करनी चाहिए-

  1. बाजार में पशु आहार उत्पाद (Cattle feed Product) उतारने से पूर्व सभी औपचारिकतायें जैसे- उत्पाद की गुणवत्ता (Quality check), सैम्पल चेकिंग (Sample Testing), उत्पाद की पैकेजिंग, उत्पाद के फायदे (benefits of animal/cattle feed product), उत्पाद को कितनी मात्रा में दिया जाना चाहिए व उत्पाद के विज्ञापनों पर विशेष ध्यान देना आवश्यक है.
  2. प्रारंभिक स्तर पर पशु आहार/पशु चारे की मार्केटिंग के लिए इच्छुक उद्यमी/किसान अपने क्षेत्रीय/स्थानीय पशु पालकों व डेयरी फार्म वालों को अपने प्रोडक्ट के सैंपल मोहैया कराकर शुरू कर सकता है.
  3. यदि आपके उत्पाद की गुणवत्ता उन्हें पसंद आ जाती है, तो समझ लीजिए आपका बिजनेस शुरू हो चुका है. पशु पालक व डेयरी फार्म; पशु आहार उत्पाद की बड़ी मांग आने लगेगी.
  4. इसके साथ ही उद्यमी को ऐसे क्षेत्रों पर भ्रमण करना है जहां मवेशियों की बड़ी संख्या रहती हो. वहां के छोटे रिटेलर्स व डीलर्स से संपर्क कर पशु आहार की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सकती है.
  5. जैसे-जैसे उत्पाद की मांग बढती जाती है, उद्यमी को अपने उत्पाद के विज्ञापन जैसे- पोस्टर, बैनर, फ्लैक्स व पैम्पलेट आदि दूर-दूर तक पहुचाने की कोशिश करते रहना है. यहां ऑनलाइन या digital marketing का सहारा भी लिया जा सकता है.
  6. पशु आहार निर्माता उद्यमी अपने उत्पाद को ऑनलाइन प्लेटफार्म पर भी अवश्य ले जाना चाहिए, online प्लेटफार्म जैसे- indiamart, amazon, flipkart, tradeindia व अन्य. Online Marketing के लिए सोशल मीडिया भी एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है.
  7. इसके अलावा आर्डर लेकर प्रोडक्ट की डिलीवरी भी एक व्यापक रणनीति भी साबित हो सकती है.

इसे भी देखें- पराली वेस्ट से उत्पाद निर्माण व्यवसाय

सुझाव-

  • इच्छुक उद्यमी को अपने उत्पाद का ब्रांडिंग पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है क्योंकि यदि एक बार ब्रांड नाम लोगों की जुबान पर चढ़ गया तो लोग कभी भी उसे भूलते नहीं जिससे वे बार-बार उसी product की डिमांड करते है.
  • उत्पाद की ब्रांड क्षमता बनाने के लिए सबसे अहम भूमिका में होता है- उत्पाद का नाम. जिसका चयन इस प्रकार से किया जाना चाहिए कि लोगों को बोलने और याद करने में कठिनाई न आये.

इसे भी पढ़ें- बिजनेस में फेल होने के कारण

पशु आहार बनाने के व्यवसाय में लागत (Business Cost)-

पशु आहार बनाने के व्यवसाय/कारोबार में लागत (investment) की बात की जाए तो सभी आवश्यक मशीनरी व कच्चे माल सहित छोटे स्तर पर लगभग 05 लाख रूपये, वहीं बड़े स्तर पर निर्माण व्यवसाय स्थापित करने के लिए 10 से 15 लाख रुपए का निवेश करना होगा.

इसके अतिरिक्त पशु आहार बनाने का व्यवसाय शुरू करने के लिए यदि किराये के स्थान का चयन किया जाता है तो सुझाई गई संभावित धनराशी में बदलाव संभव है.

कितने तरीको से पशु आहार का बिजनेस शुरू किया जा सकता है?

अमूमन मौजूदा बाजार में लगभग सभी तरह के व्यवसायों/कारोबारों को निवेश लागत के आधार पर तीन स्तरों पर आसानी से शुरू किया जा सकता है-

1. उत्पाद निर्माता बनकर (Product Manufacturer)
2. निर्माता सहभागी बनकर (Business Partnership)
3. उत्पाद के विक्रेता बनकर (Product Distributor/Dealer)

यदि इच्छुक उद्यमी/किसान उत्पाद विक्रेता (Product Distributor/Dealer) बनकर अपने startup की शुरुआत करना चाहता है तो उसे पशु आहार के बिजनेस (Cattle feed business) शुरू करने के लिए कम से कम 02 से 05 लाख रूपये की धनराशी का निवेश करना होगा.

पशु आहार व्यवसाय शुरू करने के लिए लोन (Loan for cattle feed making business)-

व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको अपनी फर्म/कंपनी/एजेंसी का रजिस्ट्रेशन/पंजीकरण MSME (सूक्ष्म एवं लघु उद्योग) के अंतर्गत करना होगा, इस रजिस्ट्रेशन या पंजीकरण के माध्यम से आप किसी भी बैंक से लोन के लिए apply कर सकते हैं. जो आपको आपके व्यवसाय स्तर के आंकलन के मुताबिक लोन दे सकता है.

लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार द्वारा मेक इन इण्डिया के तहत Pashu Kisan Credit Card के अंतर्गत पशु पालकों/किसानों को लोन मुहैया कराया जाता है। इस योजना के अंतर्गत 1.50 लाख रुपए तक का बिना गारंटी का लोन मुहैया कराया जाता है। पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना के अंतर्गत पशुओं की संख्या के अनुसार लोन प्रदान किया जाता है।

इसे भी देखें- अपने किचन गार्डन में लगायें गरम मसाले का पौधा

इसके अलावा इच्छुक उद्यमी प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री रोजगार योजना (PMRY)कौशल विकास योजना आदि के माध्यम आपको आसानी से ऋण/लोन मिल सकता है. इसके लिए आपको अपनी फर्म/कंपनी/एजेंसी के पंजीकरण संख्या से सरकारी योजनओं के तहत आवेदन करना होगा.

सरकारी योजनओं के तहत लघु उद्योग हेतु ऋण/लोन लेने के लिए आप अपने क्षेत्रीय सरकारी बैंक की शाखा से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

पशु आहार व्यवसाय में मुनाफा (Profit in cattle feed making business)-

पशु आहार बनाने का व्यवसाय/बिजनेस (Cattle Feed Manufacturing Business) प्रमुख रूप से cattle feed formula पर आधारित होता है. यदि आपके द्वारा तैयार किया गया फार्मूले के सेवन से पशु/मवेशी स्वस्थ्य और निरोगी रहते है, साथ ही पर्याप्त मात्रा में by product भी उत्सर्जित कर रहे हैं तो आप पशु आहार कारोबार से बहुत ही अच्छा मुनाफा बड़ी ही आसानी से कमा सकते हैं.

पशु आहार के बिजनेस में मुनाफा, व्यवसाय के प्रकार आदि चयन पर निर्भर करता है. मसलन यदि इच्छुक उद्यमी; निर्माता बनकर अपना उद्यम/बिजनेस शुरू करना चाहता है तो 01 टन पशु आहार/पशु खाद्य सामग्री तैयार करने में 17 से 18 हजार रूपये की लागत आती है.

जिसे मार्केट में 19 से 20 हजार रूपये की दर से (सभी करों सहित) विक्रय/बेचा जाता है. छोटे स्तर पर भी 01 दिन में कम से कम 08 से 10 टन पशु चारे का उत्पादन आसानी से किया जा सकता है. जिसका मुनाफा आप स्वयं आंकलित कर सकते हैं.

वही यदि इच्छुक उद्यमी पशु आहार सप्लायर/डिस्ट्रीब्यूटर/डीलर बनकर अपना बिजनेस शुरू कर रहा है तो पशु आहार सप्लायर/डिस्ट्रीब्यूटर/डीलर बनकर उद्यमी उत्पाद पर निर्धारित कमीशन से प्रति माह 30,000 से लेकर 50,000 तक कमा सकता है.

पशु आहार बिजनेस से सम्बंधित उपयोगी प्रश्न (FAQ.)-

पशु चारे या पशु आहार की कौन से स्थानों पर विशेष आवश्यकता होती है?

अमूमन पशु आहार को मौजूदा बाजार के मुताबिक मुख्य रूप से तीन भागों में बांटा गया है. यह 03 स्थान हैं-

1. पोल्ट्री (जिसमें मुर्गी, बत्तख, बटेर, एमू व अन्य सभी पाले जाने वाले पक्षी आते है)  
2. कैटल (जिसमें गाय, भैंस, बैल व सभी प्रकार के मवेशी)
3. एक्वा (जलीय जंतु जैसे मछली पालन, झींगा, केकड़ा व अन्य के लिये आहार)

पशु आहार पैलेट बनाने की मशीन (animal feed pellet making machine) कितने की आती है?

पशु चारे के पैलेट (cattle feed pellet making machine) की कीमत 1,00,000 रूपये प्रति इकाई से शुरू हो जाती है.

अंत में-

हमारा देश भारत! पिछले कई दशको से कृषि प्रधान देश रहा है, जो आज भी कायम है. यहां आज भी सबसे अधिक जनसंख्या गांव के अंदर निवास करती है. जो अपने जीवन यापन के लिए कृषि व पशु पालन (विशेषकर दुधारू पशुओं) पर निर्भर रहते हैं.

वर्तमान में जैसे-जैसे जनसँख्या बढ रही है… दूध जैसे प्राथमिक उत्पाद की मांग बढ़ना भी स्वाभाविक है. उच्च गुणवत्ता का पशुओं से दूध प्राप्त करने के लिए जरूरी है कि पशुओं संतुलित और पौष्टिक पशु आहार दिया जाए… ऐसे में पशु आहार बनाने का व्यवसाय इच्छुक उद्यमी/किसान के लिए एक शानदार मुनाफे का विकल्प साबित हो सकता है.

बशर्ते इच्छुक उद्यमी/किसान पशु आहार से जुडी समस्त जानकारी (Cattle Feed Making Business Plan) को अच्छी तरह समझ व मौजूदा बाजार का विस्तृत आंकलन कर अपना उद्यम/बिजनेस शुरू करे.

नोट- किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले बाजार/मार्केट रिसर्च एवं खपत का आंकलन अनिवार्य रूप से अवश्य करें. ऐसा करने से आपको व्यवसाय में आने वाले जोखिम और दिक्कतों का सामना करने में आसानी हो जाएगी और बाजार में डिमांड के अनुरूप आप अपने products का निर्माण भी अच्छे से कर पाएंगे.

आशा है आपको इस लेख “कम निवेश से शुरू करें पशु आहार बनाने का व्यवसाय” से पशु चारा कारोबार व Cattle Feed Making Business के बारे में विस्तृत जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही…  यदि कुछ छूट गया हो या कुछ पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में जरूर लिखें. तब तक के लिए-

शुभकामनाएं आपके कामयाब और सफल व्यापारिक भविष्य के लिए.” 

धन्यवाद!

जय हिंद! जय भारत !

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular