उत्पाद निर्माणघर से शुरू करें फिटकरी निर्माण व्यवसाय | Start Alum Making Business...

घर से शुरू करें फिटकरी निर्माण व्यवसाय | Start Alum Making Business at Home in hindi

फिटकरी निर्माण व्यवसाय (Alum Making Business) की विस्तृत जानकारी, फिटकरी क्या होती है, कितने नामों से फिटकरी को जाना जाता है, फिटकरी बनाने की प्रक्रिया क्या है, फिटकरी बिजनेस में कितनी लागत की जरूरत होती है, घर पर फिटकरी बनाने का कारोबार शुरू करने के लिए किन मशीनों का उपयोग किया जाता है, फिटकरी मेकिंग बिजनेस में मुनाफा कितना होता है.

यदि आप ऐसे कारोबार की खोज में हैं, जिसे कम पूँजी निवेश के साथ घर में आसानी से शुरू किया जा सकता हो… तो फिटकरी निर्माण व्यवसाय/कारोबार एक शानदार विकल्प साबित हो सकता है. आप जानते ही हैं जब से वैश्विक महामारी covid-19 ने दुनिया में अपना प्रकोप डाला है, जिसके चलते कई लोगों को अपनी आमदनी से समझौता करना पड़ा. साथ ही कईयों का तो आमदनी स्रोत ही बिखर गया.

ऐसे मुश्किल समय में जहां हर कोई किसी भी तरह की पूँजी लगाने से पहले अपनी निवेशित धनराशी को संरक्षित कर अपने निवेश से अच्छा मुनाफा कमाने की भावना रखता है. ऐसे में उनके लिए फिटकरी बनाने का व्यवसाय/उद्यम एक low investment high profitable business हैं.  जहां शुरूआती लागत नाम मात्र की ही लगानी होती है, और शुरूआती स्तर पर अच्छा मुनाफा भी कमाया जा सकता है.

देखिये! फिटकरी निर्माण व्यवसाय में निवेश करने अथवा fitkari making business शुरू करने से पहले इच्छुक उद्यमी/उम्मीदवारों को फिटकरी बनाने का तरीका और कारोबार के लिए फिटकरी बिजनेस प्लान (Alum making business plan) को अच्छे से सीखना जरूरी है, क्योंकि अगर एक सफल कारोबारी बनना है तो कारोबार शुरू करने की पहली सीढी होती है- व्यवसाय की सम्पूर्ण जानकारी इकठ्ठा करना.

अनुक्रमिका

फिटकरी क्या है? (what is alum)-

फिटकरी एक रासायनिक यौगिक (chemical compound) है, जिसे Aluminum sulphate और Potassium sulphate के मिश्रण प्रक्रिया से निर्मित किया जाता है. यह रंगहीन क्रिस्टलीय रासायनिक यौगिक है. अंग्रेजी में फिटकरी को एलम (Alum) व रासायनिक भाषा में पोटाश एलम कहा जाता है. पोटाश एलम का सूत्र KAl(SO4)2 24H2O होता है.

फिटकरी के उपयोग (uses of alum)-

फिटकरी दैनिक उपयोग में लिया जाने वाले एक महत्वपूर्ण उत्पाद है, मौजूदा समय में फिटकरी को कई तरह से दैनिक उपयोग में लिया जाता है. मसलन-

  1. बहते हुए खून की जल्द रोकथाम के लिए फिटकरी का उपयोग किया जाता है. जैसे- कई सैलूनों व ब्यूटीपार्लर में बालों की शेविंग के तुरंत बाद फिटकरी प्रयोग में लाई जाती है क्योंकि फिटकरी में एंटीसेप्टिक गुण (antiseptic properties) भी होते हैं.
  2. लगभग हर तरह के पानी को शुद्ध और स्वच्छ बनाने में फिटकरी का उपयोग किया जाता है.
  3. पसीने व मुंह की दुर्गन्ध को दूर करने में फिटकरी का उपयोग किया जाता है. मतलब फिटकरी जीवाणु रोधी व anti fungal का काम करती है साथ ही दांतों को साफ कर चमकदार रंग देने का भी काम करती है.
  4. फिटकरी के पाउडर में नारियल तेल को मिलकर फटी ऐंडियों पर लागने से फिटकरी फटी ऐंडियों को भी ठीक कर सकती है.
  5. अमूमन त्वचा को सुन्दर व रोग रहित जैसे- मुहासों व छालों के उपचार में, स्किन कटने, छिलने, बालों की रुसी (Dandruff) व खुजली (Itching) आदि से निजात पाने के लिए फिटकरी को दैनिक उपयोग में लिया जाता है.
  6. वास्तुशास्त्र के तहत भी फिटकरी को कई प्रकार से उपयोग में लिया जाता है.
  7. और सबसे बड़ी बात फिटकरी को घर पर भी कम पूँजी लगाकर आसानी से बनाया जा सकता है.

फिटकरी निर्माण व्यवसाय में रॉ मटेरियल-

व्यवसायिक तौर पर घर से फिटकरी निर्माण व्यवसाय स्थापित करना चाहते/चाहती हैं तो आपको घर पर फिटकरी बनाने के लिए नीचे बताये गए कच्चे माल/रॉ मटेरियल की आवश्यकता होगी-

  1. Aluminum sulphate- 1600 grm.
  2. Potassium sulphate- 350 grm.
  3. Drinkable Water (पात्र तली से ½ इंच ऊपर तक)

एलुमिनियम सल्फेट (Aluminum sulphate) जिसका रासायनिक सूत्र – Al2(SO4)3 होता है.

पोटैशियम सल्फेट (Potassium sulphate) जिसका रासायनिक सूत्र – K2SO4 होता है.

फिटकरी निर्माण व्यवसाय में सुरक्षा आवश्यक उपकरण (necessary equipment)-

चूंकि फिटकरी निर्माण रासायनिक प्रक्रिया के तहत किया जाता है, इसलिए यह जरूरी है कि स्वयं की सुरक्षा के लिए जरूरी सुरक्षा उपकरण को धारण करना. ये सुरक्षा उपकरण हैं-

  1. मोटे रबर के दस्ताने
  2. पारदर्शी चश्मे और
  3. सर्जिकल फेस मास्क

इसे भी पढ़ें- कम लागत में कैसे शुरू करें डिटर्जेंट बनाने का कारोबार

फिटकरी निर्माण व्यवसाय में मशीनरी व पात्र (required machinery and molds)-

व्यवसायिक तौर पर घर से अथवा छोटे स्तर पर फिटकरी निर्माण व्यवसाय शुरू करने के लिए मुख्य रूप से डबल बॉयलर तकनीक का उपयोग किया जाता है. इस डबल बॉयलर तकनीक से फिटकरी बनाने के लिए जो समान व पात्र की आवश्यकता होती है वह घर के किचन में ही आसानी से मिल जाती है. …. मशीनों व पात्रों की आवश्यकता होती है-

  1. डबल बॉयलर के लिए स्टील के पात्र (Bowel) – 02
  2. लकड़ी, स्टील अथवा कांच का स्पैचुला (लम्बाई 10 से 12 इंच) – 02
  3. सांचे (प्लास्टिक अथवा कांच के) –  आकार इच्छानुसार
  4. गैस स्टोव अथवा इंडक्शन कुकटॉप

बड़े स्तर पर मशीनरी-

  1. Double Boiler Machine
  2. सांचे (प्लास्टिक अथवा कांच के) – आकार इच्छानुसार आदि

सुझाव (suggestion)-

यदि आपको फिटकरी बनाने की जानकारी नहीं है तो मेरा यह सुझाव है कि किसी भी बड़े निवेश (बड़ी मशीनरी आदि में) के पहले फिटकरी बनाने की प्रक्रिया को अच्छे से सीख लें, क्योंकि एक सफल उद्यम/व्यवसाय की शुरूआत हमेशा छोटे स्तर पर ही शुरू होती है.

साथ ही छोटे स्तर पर शुरू किये गए उद्यमों/व्यवसायों के शुरूआती चरणों में जोखिम कम होता है, तथा गलितयों को सुधारने की सहूलियत भी मिलती है. 

कहां से लें (where to buy)-

उपरोक्त मशीनरी व रॉ मटेरियल को आप अपने लोकल मार्केट से ले अथवा बनवा सकते हैं यदि लोकल बाजार में यह मशीने व रॉ मटेरियल नहीं मिल पा रहा/रही हैं तो इसे आप ऑनलाइन नीचे दी गई वेबसाइटस से खरीद सकते हैं-

  1. www.indiamart.com 
  2. www.amazon.com
  3. www.flipkart.com या फिर
  4. आप जिसे जानते हैं वहाँ से ऑर्डर दे सकते हैं।

इसे भी पढ़े- छोटे स्तर पर कैसे शुरू करें मछली पालन व्यवसाय

फिटकरी बनाने की विधि (alum making process)-

घर पर अथवा छोटे स्तर पर डबल बॉयलर तकनीक से फिटकरी निर्माण व्यवसाय स्थापित करने के तहत फिटकरी बनाने की विधि को … चरणों में पूरा किया जाता है-

प्रथम चरण-

  • सबसे पहले डबल बॉयलर तकनीक के तहत एक पात्र को आंच पर रख कर उसमें बताई गई मात्रा के अनुसार पानी भर कर पानी के ऊपर दूसरे पात्र को रख दिया जाता है.
  • इसके बाद दूसरे पात्र में सबसे पहले एलुमिनियम सल्फेट (Aluminum sulphate) और पोटैशियम सल्फेट (Potassium sulphate) को बताई गई मात्रा के अनुसार डालना होता है.
  • इसके बाद जैसे जैसे पानी का तापमान बढ़ता है, दूसरे पात्र में डाले गए तत्व एलुमिनियम सल्फेट और पोटैशियम सल्फेट पिघलने लगते हैं.
  • जैसे-जैसे यह तत्व पिघलते हैं, इन्हें आपस में स्पैचुला की मदद से मिलाते जाना हैं, जब तक ये पूरी तरह से तरल (पारदर्शी तरल) में न बदल जाएँ.

सुझाव-

  • यदि आप फिटकरी में सुगंध व रंग मिलाना चाहते हैं तो जब मिश्रण तरल अवस्था में हो तब ही मिला दें, मौजूदा दौर में सुगन्धित रंगीन फिटकरी का चलन सैलून व ब्यूटीपार्लर आदि में बढ़ता जा रहा है.
  • वहीं यदि आप पानी आदि को शुद्ध करने अथवा चिकित्सीय लाभ लेने के प्रयोजन से फिटकरी निर्माण व्यवसाय स्थापित करना चाहते हैं तो मिश्रण में किसी भी अन्य सामग्री को मिलाने की आवश्यकता नहीं है.

दूसरा चरण-

  • जैसे ही दोनों तत्व तरल में बदल कर आपस में मिश्रित हो जाएं. इन्हें आंच से उतारकर वांछित तैयार सांचों में भरना होता है.
  • वांछित आकार के सांचों में भरकर लगभग 24 से 72 घंटों के लिए छोड़ दें.
  • सांचों में मौजूद मिश्रण पूरी तरह से सूखकर ठोस होने के बाद उपयोग में लिए जाने को तैयार हो जाता है.

तीसरा चरण-

  • सूखकर ठोस होने के बाद तैयार उत्पाद की पैकिंग व ब्रांडिंग की जाती है और बाजार में बिक्री के लिए भेज दिया जाता है.

नोट- उपरोक्त विधि के अलावा फिटकरी बनाने की अन्य विधियां हो सकती हैं.

कैसे शुरू करें अगरबत्ती निर्माण व्यवसाय | Agarbatti Manufacturing Business in hindi

फिटकरी निर्माण व्यवसाय का पंजीकरण (fitkari business registration)-

कोई भी व्यवसाय या कारोबार शुरू करने से पहले एक उद्यमी को अपने व्यवसाय या कारोबार की कम्पनी या फर्म का पंजीकरण कराना अनिवार्य है, क्योंकि व्यापार को शुरू करने के लिए पहला मानक पंजीकरण/रजिस्ट्रेशन लेना है.

पंजीकरण या रजिस्ट्रेशन के बाद ही आप अपने उत्पाद का प्रचार मार्केट/बाजार में कर सकते/सकती हैं. फिटकरी निर्माण व्यवसाय शुरू करने के लिए आपको इन लाइसेंसों को लेना जरूरी है-

  1. MSME Registration
  2. GST Registration
  3. Trademark License
  4. FSSAI License

शुरुआती स्तर पर फिटकरी बनाने का कारोबार शुरू करने के लिए आप केवल भारत सरकार द्वारा विकसित किये गए उद्यमी पोर्टल MSME पर अपने व्यापार की लागत के अनुरूप सूक्ष्म, मध्यम और लघु उद्योग अंतर्गत किसी एक श्रेणी में पंजीकरण करा सकते/सकती हैं,

साथ ही आपको टैक्स आदि के लिए GST No. भी लेना अनिवार्य है। भविष्य में जब आपका कारोबार बढ़ेगा, आपको बाकी के पंजीकरण कराना अनिवार्य है।

फिटकरी निर्माण व्यवसाय की कुल लागत (alum business cost)-

छोटे स्तर पर घर से फिटकरी निर्माण व्यवसाय अथवा फिटकरी बनाने का कारोबार (Alum Making Business) शुरू करने के लिए बहुत ही कम लागत की आवश्यकता होती है.

छोटे स्तर पर सभी उपकरणों व कच्चे माल सहित लागत लगभग 07 से 20 हजार तक आ सकती है. लागत की यह संभावित धनराशी उपकरणों व रॉ मटेरियल की गुणवत्ता पर घट-बढ़ सकती है.

लगभग प्रत्येक इच्छुक उद्यमी को व्यवसाय शुरू करने के लिए Business Loan की आवश्यकता तो पड़ती ही है, ऐसे में सही जगह से लोन लेना ही हितकर होता है.

घर बैठे शुरू करें Epoxy Resin Art बनाने का बिजनेस

यूं तो छोटे स्तर पर फिटकरी बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए बहुत ही सीमित लागत की आवश्यकता होती है. लेकिन जैसे-जैसे उत्पाद की मांग बढती है, तो संसाधन जुटाने के लिए Business Loan लेना प्राथमिकता बन सकती है.

फिटकरी उत्पाद के संभावित उपभोक्ता-

मौजूदा दौर में हर एक जागरूक व्यक्ति फिटकरी का संभावित उपभोक्ता है. क्योंकि बढ़ते प्रदूषण के कारण अब फिटकरी जैसा उत्पाद अपने विशेष गुणों के कारण लोकप्रिय होता  जा रहा है. मसलन फिटकरी उत्पाद का बड़ी मात्रा में प्राथमिक उपयोग जल के शुद्धिकरण व एंटीसेप्टिक के रूप में किया जा रहा है.

आज जैसे जैसे मनुष्य की जनसँख्या बढती जा रही है, जिस कारण पानी (शुद्ध पेयजल) की खपत भी बढ़ी है, और जैसा कि हम जानते हैं कि प्रकृति के संसाधन सीमित हैं और धीरे-धीरे समाप्त हो रहे है, तो क्यों न ऐसे उत्पादों को उपयोग में लिया जाये जो बर्बाद हो रहे संसाधनों का पुनर्चक्रीकरण कर सके और पर्यावरण सुधार में भी सहयोग दे सके.

देखा जाए तो फिटकरी जैसा उत्पाद हम मनुष्यों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है क्योंकि अमूमन घरों में प्राथमिक चिकित्सा के रूप में फिटकरी की प्रमुख भूमिका होती है. व्यवसायिक तौर घर से फिटकरी निर्माण व्यवसाय शुरू कर अच्छा मुनाफा कमाने के लिए संभावित उपभोक्ता स्थानीय पंसारीकिराना विक्रेता, सैलून, ब्यूटीपार्लर के अलावा कॉस्मेटिक स्टोर आदि हो सकते हैं.

फिटकरी निर्माण व्यवसाय में मुनाफा (Profits in alum making business)-

मुनाफा या लाभ शब्द मौलिक तौर पर एक ऐसा शब्द है जो हर किसी को एक नई प्रेरणा देता है. फिटकरी निर्माण व्यवसाय/कारोबार में मुनाफे की कोई सीमा तय नहीं है,

फिटकरी बनाने के बिजनेस में मुनाफा पूरी तरह से आपकी गुणवत्ता पर निर्भर करता है, सामान्य तौर पर 100 ग्राम की एक बट्टी पर 05 से लेकर 12 रुपए तक खर्च आता है, जिसे खुदरा मार्केट में 20 से 35 रुपये तक आसानी से बेचकर मुनाफा कमाया जा सकता है. 

वहीँ यदि बड़े स्तर पर मुनाफे की बात करें तो हर महीने 30,000 से 60,000 रूपए या इससे भी ऊपर हर महीने कमाया जा सकता है. (यह संभावित धनराशि एक कारोबारी द्वारा बताई गई है)

फिटकरी बिजनेस में अक्सर पूंछे जाने वाले प्रश्न (FAQ.)-

क्या फिटकरी को खाया जा सकता है?

जी हां! बाजार में मिलने वाली फिटकरी को पीसकर व इसमें शहद के साथ मुलेठी मिलाकर सेवन करने से खांसी व गले सम्बन्धी समस्याओं से निजात पाने में मदद मिलती है.

दूध में फिटकरी डालने से क्या होता है?

गर्म दूध में थोड़ी सी फिटकरी डालने से दूध जल्द ही फट जाता है, इस फटे हुए दूध से पनीर बनाया जा सकता है.

फिटकरी का निर्माण कैसे किया जाता है?

फिटकरी एक रासायनिक यौगिक (chemical compound) है, जिसे Aluminum sulphate और Potassium sulphate के मिश्रण प्रक्रिया से निर्मित किया जाता है. यह रंगहीन क्रिस्टलीय रासायनिक यौगिक है.

फिटकरी के पानी से कुल्ला करने से क्या होता है?

पानी में फिटकरी का घोल तैयार कर उससे कुल्ला करने से फिटकरी पानी को स्वच्छ करने के साथ-साथ पानी में मौजूद रोगजनित बैक्टीरिया के प्रभाव को निष्फल करने का प्रयास करती है व मुंह की दुर्गन्ध को दूर करने के अलावा मसूड़ों आदि का प्राथमिक उपचार भी करती है.

फिटकरी का formula क्या है?

दैनिक उपयोग में ली जाने वाली फिटकरी का सूत्र है- K2SO4AI2(SO4)3 · 24H2O. फिटकरी का pH मान 3 से 4.5 तक होता है.

इसे भी पढ़ें- घर से मिट्टी उत्पाद निर्माण व्यवसाय कैसे शुरू करें

अंत में-

हमारा उद्देश्य उन इच्छुक उम्मीदवारों, व्यवसायियों, व्यापारियों और कारोबारियों को बेहतर से बेहतर जानकारी प्रदान करना है, जो उत्पाद निर्माण  व्यवसाय को करने के इच्छुक हैं और इस व्यवसाय में अपना भविष्य में देख रहे हैं.

नोट- किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले बाजार/मार्केट रिसर्च एवं खपत का आंकलन अनिवार्य रूप से अवश्य करें. ऐसा करने से आपको व्यवसाय में आने वाले जोखिम और दिक्कतों का सामना करने में आसानी हो जाएगी और बाजार में डिमांड के अनुरूप आप अपने products का निर्माण भी अच्छे से कर पाएंगे.

आशा है आपको इस लेख ‘घर से कैसे शुरू करें फिटकरी निर्माण व्यवसाय’ से फिटकरी (Alum) बनाने के उद्यम/व्यवसाय, व्यापार व कारोबार के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी जरूर मिली होगी, साथ ही… यदि कुछ छूट गया हो या कुछ पूछना चाहते हों तो कृपया comment box में जरूर लिखें. तब तक के लिए-

“शुभकामनाएं आपके कामयाब और सफल व्यापारिक भविष्य के लिए”

धन्यवाद!

जय हिंद! जय भारत!

RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular